Barish Shayari in Hindi

Barish Shayari in Hindi 140 | Barish Shayari | Shayari on Barish | बारिश शायरी

Barish Shayari in Hindi – Dharti Tarap Rhi Thi Our Suraj Se Aag Nikal Rha The | Jangal Pear Sukh Rhe The | Janwar Behal Tha | Har Aadmi Mansuchit Ka Eantijar Kar Rha Tha | Tabhi Achank Se Musam Me Badlaw Aaya | Aakas Badlo Se Ghir Gya Tej Hawa Our Jor Se Bijliya Girne Lagi Barish Ki Bunde Parne Lagi | Mitti Ki Suganth Saso Ko Mahkane Lagi | Jangal Hari Bhari Hone Lagi Barish Ne Gharo Ko Thokar Chamka Diya | 

Kitne Dino Ke Bad Barish Aaya Esliye Log Ghar Se Bhahar Aakar Barish Ka Annd Lene Lage | Barish Shayari in Hindi  Barish Shayari in hindi | To Dosto Aaj Ham Aapko Barish Ke Liye Shayari Laye Hai Jo Ki Aapko Bhut Pasand Aayega



Barish Shayari in Hindi


Barish Shayari in Hindi

 

बालकनी से बाहर आकर देखो ऐ हसीना।
मौसम तुम से मेरे दिल की बात कहने आया हैं।

Balkani Se Bahar Aakar Dekho Ye Hasina,
Muisam Tum Se Mere Dil Ki Bat,
Kahne Aaya Hai


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi •••••••••💦


उस को भला कैसे कोई गुलाब दे।
आने से जिसके खुद मौसम ही गुलाबी हो जाये।

Uas Ko Bhala Kaise Koei Gulab De,
Aane Se Jiske Khud Muaisam Hi,
Gulabi Ho Jaye,


 


या अल्लाह हम सब पर अपनी रहमत कि बारिश कर दे।
हमारे गुनाहो को माफ कर दे।

Ya Allah Ham Sab Par Apni Rahmat Ki Barish,
Kar De Hamare Gunaho Ko Mafh Kar De


Barish Shayari whatsapp Status


अब कोन घटाओ को घुमड़ने से रोक पायेगा।
जुल्फ जो खुल गयी तेरी लगता हैं सावन आयेंगे।

Ab Kon Ghataoo Ko Gumrne Se Rok Payega,
Jilfh Jo Khul Gyi Teri Lagta Hai Sawan Aayega



जरा ठहरो बारिश थम जाए तो फिर चले जाना।
किसी का तुझ को छू लेना मुझे अच्छा नहीं लगता।

Jra Thhro Barish Tham Jaye To Fhir,
Chale Jana
Kisi Ka Tum Ko Chu Lena Mujhe,
Achha Nhi Lagta


 


ये बारिश ये हसीन मौसम और ये हवाये।
लगता हैं आज मुहब्बत ने किसी का साथ दिया हैं।

Ye Barish Ye Hasin Muaisam Our Ye Hawaye,
Lagta Hai Aaj Muhbbt Ne Kisi Ka,
Sath Diya Hai


 


Barish Shayari in Hindi

आज आई बारिश तो वो जमाना याद आया।
वो तेरा छत पे रहना और मेरा सड़को पे नहाना।

Aaj Aayi Barish To Wo Jamana Yad Aaya,
Wo Tera Chat Pe Rahna Our Mera,
Sarko Pe Nahana


 


किस को खबर थी साँवले बादल बिन बरसे उड़ जाते हैं।
सावन आया लेकिन अपनी किस्मत में बरसात नहीं।

Kis Ko Khabar Thi Aawle Badal Bin,
Baese Uar Jate Hai
Sawan Aaya Lekin Apni Kismat,
Me Barsat Nhi


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi •••••••••💦


सीने में समुन्दर लावे सा सुलगता हूँ।
मैं तेरी इनायत की बारिश को तरसता हूँ।

Sine Me Samundar Lawe Sa Sulgta Hu,
My Teri Einayt Ki Barish Ko Tarsta Hu,


Barish Status in Hindi


बरसात का बादल तो दिवाना हैं क्या जाने।
किस राह से बेचना हैं किस छत को भिगोना हैं।

Barsat Ka Badal To Diwana Hai Kya Jane,
Kis Rah Se Bechna Hai Kis Chat,
Ko Bhigona Hai,



अबके बरस की रुत और भी भड़कीली हैं।
जिस्म से आग निकलती हैं कबा गिली हैं।

Abke Baras Ki Rut Our Bhi Bharkili Hai,
Jism Se Aag Niklti Hai Kaba Gili Hai


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi •••••••••💦


बरसात की भीगी रातो में फिर कोई सुहानी याद आई।
कुछ अपना जमाना याद आया कुछ उनकी।
जवानी याद आई

Barsat Ki Bhigi Rato Me Fhir Koei,
Suhani Yad Aayi
Kuchh Apna Jamana Yad Aaya Kuchh,
Uanki Jawani Yad Aayi


 

Love Shayari


होंठों पे हंसी तो हो मगर।
आँखो में बरसात ना आए।

Hotho Pe Hasi To Ho Magar,
Aakho Me Barsat Na Aye,


 


बरसात का मज़ा तेरी गेसू दिखा गए।
अक्स आसमान पड़ जो परा अब्र जा गए।

Baesat Ka Maja Teri Gesu Dikha Gye,
Aksar Aasman Par Jo Para Abr Ja Ge,


 


भल कागज की इतनी कशितयाँ हम क्यों बनाते हैं।
ना वो गलियाँ कही हैं अब ना वो बारिश का पानी हैं।

Bhal Kagaj Ki Eatni Kastiya Ham,
Kyo Banate Hai
Na Wo Galtiya Kahi Hai Ab Na Wo,
Barish Ka Pani Hai,



Barish Shayari in Hindi

मासूम मुहब्बत को बस इतना फसाना हैं
कागज की हवेली हैं बारिश का जमाना हैं।

Masum Muhbbt Ko Bas Eatna Fhsana Hai,
Kagaj Ki Haweli Hai Barish Ka Jamana Hai,


Funny Barish Shayari


गुल तेरा रंग चुरा लाऐ हैं गुलजारो में।
जल रहा हूँ भरी बरसात की बौछारो में।

Gul Tera Rang Chura Laye Hai Guljaro Me,
Jal Raha Hu Bhari Bharsat Ki Baucharo Me,


 


अभी भी खुश्क हैं मौसम बारिश हो तो सोचेगे।
हमें अपने आसमानो को किस मिट्टी में बोना हैं।

Abhi Bhi Khusak Hai Musam Barish,
Ho To Sochege
Hame Apne Aasmano Ko Kis Mitti,
Me Bona Hai


 


मेरे घर की मुफलिसी को देख कर।
बदनसीबी सर पटकती रह गयी।
और एक दिन की मुख़्तसर बारिश के बाद।
छत कई दिन तक टपकती रह गई।

Mere Gjar Ki Mufhlisi Ko Dekh Kar,
Basnsibi Sar Patkti Rah Gyi,
Our Ek Din Ki Mukhtasar Barish Ke Bad,
Chat Kaei Din Tak Tapkati Rah Gyi,



रईसो के वास्ते बारिश खुशी की बात नहीं।
मुफसिल की छत के लिए इम्तेहान होता हैं।

Raeiso Ke Waste Barish Khusi Ki Bat Nhi,
Mufhsil Ki Chat Ke Liye Eamtehan Hota Hai,


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi •••••••••💦


गम़ की बारिश ने भी तेरा नक़्श को धोया नहीं।
तू ने मुझको खो दिया पर मै ने तुझे खोया नहीं।

Gam Ki Barish Ne Bhi Tera Naks Ko Thoya Nhi
Tu Ne Mujhko Kho Diya Par My Ne,
Tujhe Khoya Nhi


 


रिमझिम तो हैं मगर सावन गायब हैं।
बच्चे तो हैं मगर बचपना गायब हैं।
क्या हो गयी हैं तासीर जमाने की यारो।
अपने तो हैं मगर अपनापन गायब हैं।

Rimjhim To Hai Magar Sawan Gayab Hai,
Bachhe Ro Hai Magar Bachpna Gayab Hai,
Kya Ho Gyi Hai Tasir Jamane Ki Yaro,
Apne Ro Hai Magar Apnapan Gayab Hai,


sad barish shayari facebook


कच्ची मिट्टी का बना होता हैं उम्मीदो का घर।
ढल जाता हैं हकीकत की बारिश में अक्सर।

Kachhi Mitti Ka Bna Hota Hai Umido Ka Ghar,
Dal Jata Hai Hakikt Ki Barish Me Aksar,



जाने क्यों लोग हमे अजमाने की।
कुछ पल साथ रहकर भी दुर चले जाते हैं।
सच ही कहाँ हैं कहने वालो ने।
सागर के मिलने के बाद लोग बारिश को भूल जाते हैं।

Jane Kyo Log Hame Ajmane Ki,
Kuch Pal Sath Rahkar Bhi Dur Chle Jate Hai,
Sach Hi Kaha Hai Kahne Wale Ne,
Sagar Me Milne Ke Bad Log Barish,
Ko Bhul Jate Hai,


 


मेरे दिल की ज़मीन बरसो से बंजर पड़ी हैं।
मैं तो रात भर बारिश का इन्तजार कर रहा हूँ।

Mere Dil Ki Jamin Barso Se Banjar Pari Hai,
My To Rat Bhar Barish Ka Eantjar Kar Rha Hu,


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi •••••••••💦


सुना हैं बारिश में दुआ कुबुल होती हैं।
अगर हो इजाज़त तो माग लू तुम्हें।

Suna Hai Barish Me Duaa Kubul Hoti Hai,
Agar Ho Eajajt To Mag Lu Tumhe,

 



आज दिन भर बारिश होने की संभावना हैं।
कृपया अपने दिमाग वाली जगह को प्लास्टिक से ढक लो।
कयोंकि खाली जगहो में पानी जल्दी भरता हैं।

Aaj Din Bhar Barish Hone Ki Sambhwna Hai,
Kiripya Apne Dimag Wali Jagah Ko,
Plactic Se Dak Lo,
Kyuki Khali Jagho Me Pani Jaldi Bharti Hai,


barish love shayari status,

 


Barish Shayari in Hindi

तब्दीली जब भी आती हैं मौसम की अदाओ में।
किसी का युँ बदल जाना बहुत याद आता हैं।

Tabdili Jab Bhi Aati Hai Muasam Ki Adaoo Me,
Kisi Ka Yu Badal Jana Bhut Yad Aata Hai


 


मुझे मार ही ना डाले इन बादलों की साजिश।
ये जब से बरस रहे हैं तुम याद आ रहे हो।

Mujhe Mar Hi Na Dale Ean Badlo Ki Sajis,
Ye Jab Se Baras Rhe Hai Tum Yad Aa Rhe Ho,


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi •••••••••💦


क्या मोसम आया हैं हर तरफ पानी ही पानी लाया हैं।
एक जादू सा छाया हैं।
तुम घर से बहार मत निकलना वरना लोग कहेगे।
बरसात हुई नहीं और मेढक निकल आया हैं।

Kya Mosam Aaya Hai Har Tarafh Pani Hi Pani Laya Hai,
Ek Jadu Sa Chaya Hai,
Tum Ghar Se Bahar Mat Niklna Warna Log Kahege,
Barsat Huei Nhi Our Medak Nikal Aaya Hai,


 


एक हम हैं जो इश्क़ की बारिश करते हैं।
एक वो हैं जो भीगने की तैयार ही नहीं।

Ek Ham Hai Jo Eask Ki Barish Karte Hai,
Ek Wo Hai Jo Bhigne Ki Taiyar Hi Nhi Hai,



कुछ नशा तेरी बात का हैं।
कुछ नशा धीमी बरसात का हैं।
हमें तुम यही पागल मत समझो।
यह दिल पर असर पहली मुलाकात का हैं।

Kuch Nasa Teri Bat Ka Hai,
Kuch Nasa Dhimi Barsat Ka Hai,
Hame Tum Yhi Pagal Mat Samjho,
Yah Dil Par Asar Pahli Mulakat Ka Hai,


Barish Shayari 2 line


बदला जो रंग उसने हैरत हुई मुझे।
मौसम को भी माद दे गयी फ़ितरत जनाव की।

Badla Jo Rang Uasne Hairat Huei Mujhe,
Musam Ko Bhi Mad De Gyi Fhitrat Janaw Ki,


 


सुना हैं बहुत बारिश हैं तुम्हारे शहर में ज़्यादा भीगना मत।
अगर धुल गयी सारी गलत फ़हमी तो बहुत याद आयेगे हम।

Suna Hai Bahut Barish Hai Tumhare Sahar,
Me Jayada Bhigna Mat
Agar Dhul Gyi Sari Galat Dhahmi,
To Bhut Yad Aayege Ham,


 


Barish Shayari in Hindi

 

कही फिसल ना जाऊ तेरे ख्याल में चलते चलते।
अपनी यादो को रोको मेरे शहर में बारिश हो रही हैं।

Kahi Fhisal Na Jauu Tere Khayal Me Chalte Chalte,
Apni Yado Ko Roko Mere Sahar Me Barish Ho Rhi Hai,


 


बारिश और मुहब्बत बहुत ही याद गार होते हैं।
फर्क सिर्फ इतना होता हैं बारिश से सिर्फ जिसम भीगता हैं।
और मुहब्बत से आँखे।

Barish Our Muhbbt Bhut Hi Yad Gar Hote Hai,
Fhark Shirfh Eatna Hota Hai Barish Se Shirf,
Jissm Bhigta Hai Our Muhbbt Se Aakhe,


best shayari in hindi 2020,

 


उसे बारिश में भिगना अच्छा लगता हैं।
और मुझे सिर्फ बारिश में भीगती हुई वो।

Use Barish Me Bhigna Achha Lagta Hai,
Our Mujhe Shirf Barish Me Bhigri Huei Wo,


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi ••••••••💦


पता नहीं ऐसा क्या हैं इस बारिश में जितनी ज्यादा बरस।
रही हैं उतना ही तुम याद आ रहे हो।

Pata Nhi Yesa Kya Hai Eas Barish Me Jiadni,
Jayada Bars Rhi Hai Uatna Hi Tum Yad Aa Rhe Ho,



छत टपकती हैं उसके कच्चे घर की।
वो किसान फिर भी बारिश की दुआ करता हैं।

Chat Tapkti Hai Uaske Kachhe Ghar Ki,
Wo Kisan Fhir Bhi Baeish Ki Duaa Karta Hai,


 


तेरी गलियों में ना रखेगे कदम आज के बाद।
क्योंकि किचड़ हो गया है बरसात के बाद।

Teri Galiyo Me Na Rkhege Kadam Aaj Ke Bad,
Kyuki Kichar Ho Gya Hai Barsat Ke Bad,


 


इस बरसात में हम भीग जाएंगे।
दिल में तमन्ना के फूल खिल जाएंगे।
अगर दिल करे मिलने को तो याद करना।
बरसात बन कर बरस जाएंगे।

Eas Barsat Me Ham Bhig Jayege,
Dil Me Tamnna Ke Fhul Khil Jayege,
Agar Dil Kre Milne Ko Yad Karna,
Barsat Ban Kar Baras Jayege,


Barish Shayari in Hindi 140


तुम्हारे शहर का मौसम बड़ा सुहाना हैं।
मैं एक शाम चुरा लू अगर बुरा ना लगे।

Tumhare Sahar Ka Muisam Bra Suhana Hai,
My Ek Sam Chura Lu Agar Bura Na Lge,


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi •••••••••💦


कभी इश्क़ करना तो बारिश की बूँदो से करना।
जो तन पे गिरे और अंदर तलक रुह भीग जाए।

Kabhi Easak Karna To Baeish Ki Budno,
Se Karna,
Jo Tan Pe Gire Our Andar Talak Ruh Bhig Jaye



ये बादल इतना बरस के नफ़रते धुल जाए।
इंसानियत तरस गई हैं मुहब्बत के सैलाब को।

Ye Badal Eatna baras Ke Nafhrat Dhul Jye,
Eansaniyt Tars Gyi Hai Muhbbt Ke Suilab Ko,


 


आज फिर मौसम नम हुआ मेरी आँखों की तरह।
शायद बादलो का भी दिल किसी ने तोड़ा होगा।

Aaj Fhir Muis Nam Huaa Meri Aakho ki Tarah,
Sayad Badlo Ka Bhi Dil Kiai Ne Tora Hoga,


barish shayari romantic in hindi,


कितना अधुरा लगता हैं तब जब बादल हो परा बारिश ना हो।
जब जिंदगी हो पर प्यार ना हो जब आँखें हो पर ख्वाब ना हो
और जब कोई अपना हो पर साथ ना हो।

Kitna Adhura Lagta Hai Jab Badal Ho Pra Barish Na Ho,
Jab Jindgi Ho Par Payar Na Ho Jab Aakhe Ho Par Khuwab Na Ho,
Our Jab Koei Apna Ho Par Sath Na Ho,


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi •••••••••💦


बेवजह अब ज़िंदगी में प्यार के बीज ना बोए कोई।
तभी मुहब्बत के पेड़ हमेशा गम की बारिश ही लाते हैं।

Bewjah Ab Jiandgi Me Payar Ke Bij,
Na Boye Koei
Tbhi Muhbbt Ke Pear Hmesa Gam,
Ki Barish Hi Late Hai,


 


बारिश के बाद तार पर टंगी आखरी बूंद से पुछना।
क्या होता हैं अकेलापन।

Barish Ke Bad Tar Par Tagi Aakhri Bund Se,
Puchna Kya Hota Hai Akela Pan,


 


खुश नसीब होते हैं बादल।
जो दूर रहकर भी ज़मीन पर बरसते हैं।
और एक बदनसीबी हम हैं।
जो एक ही दुनिया में रहकर भी मिलने को तरसते हैं।

Khus Nasib Hote Hai Badal,
Jo Dur Rahkar Bhi Jamin Par Barste Hai,
Our Ek Hi Duniya Me Rahkar Bhi,
Milne Ko Tarste Hai



पहले रिम झिम फिर बरसात और अचानक कड़ी धूप।
मुहब्बत और अगस्त की फ़ितरत एक सी हैं।

Pahle Rim Jhim Fhir Barsat Our Achan Kari,
Dhup Muhbbt Our Agaust Ki Fhitrat Ek Si Hai,


 


किस मुँह से इल्जाम लगाए बारिश की बौछारो पर।
हमने खुद तस्वीर बनाई थी मिट्टी की दीवारों पर।

Kis Muh Se Ealjam Lgaye Barish Ki Buaichro,
Par Hamne Khud Taswir Banayi Thi Mitti Ki Diwaro Par,


Happy Barish Shayari in Hindi


Barish Shayari in Hindi

खुद भी रोता हैं मुझे भी रुला के जाता हैं।
ये बारिश का मौसम उसकी याद दिला के जाता हैं।

Khud Bhi Rota Hai Mujhe Bhi Rula Ke Jata Hai,
Ye Barish Ka Musam Uanki Yad Dila Ke Jata Hai,

 


 


इन आँखों से दिन रात बरसात होगी।
अगर जिंदगी ए जज़्बात होगी।
जब जब गरजते हैं ये बादल मेरे दिल की धडकन।
बढ़ जाती हैं।
और मेरे दिल की हर एक धड़कन से आवाज़ आती
तुम कहाँ हो।

Ean Aakho Se Sin Rat Barsat Hogi,
Agar Jiandgi Ye Jajbat Hogi,
Jab Jab Grjte Hai Ye Badal Mere Dil,
Ki Tharkan Bath Jati Hai,
Our Mere Dil Ki Har Ek Tharkan Se Aawaj,
Aati Tum Kaha Ho,


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi •••••••••💦


पुछते हो ना मुझसे तुम हमेशा की में कितना प्यार करता हूँ तुम्हें।
तो गिन लो बरसती हुई इन बूंदो को तुम।

Puchte Ho Na Mujhse Tum Hamesa Ki,
Me Kitna Payar Karta Hu Tume,
To Gin Lo Barsti Huei Ean Bundo Ko Tum,


 


एक ख्वाब में आँखे खोली हैं क्या मोड़ आया हैं कहानी में।
वो भीग रही थी बारिश में और आग लगी हैं पानी में।

Ek Khwab Me Aakhe Kholi Hai Kya Mor Aaya Hai Kahani Me,
Wo Bhig Rhi Thi Barish Me Our Aag,
Lagi Hai Pani Me,



गर मेरी चाहतो के मुताबिक जमाने में हर बात होती।
तो बस मै होता वो होती और सारी रात बरसात होती।

Gar Meri Chahto Ke Mutabik Jamane Me,
Har Bate Hoti,
To Bas My Hota Wo Hoti Our Sari,
Rat Barsat Hoti


rain shayari in hindi,


मौसम ऐ बारिश की अब जरुरत नहीं।
मेरे सहर को या रब।
अब तेरी रहमतो में भिग जाने के लिए।
माह ए रमज़ान की बरकते ही काफी हैं।

Musam Ye Barish Ki Ab Jarurat Nhi,
Mere Sahar Ko Ya Rab,
Ab Teri Rahmto Me Bhig Jane Ke Liye,
Mah Ye Ramjan Ki Barkte Hi Kafhi Hai,


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi •••••••••💦


दिल की बाते कौन जाने। मेरे हालात को कौन जाने।
बस बारिश का मौसम हैं। पर दिल की ख़्वाहिश कौन जाने।
मेरी प्यास का एहसास कौन जाने।

Dil Ki Bate Kuain Jane Mere Halat Ko Kuain Jane,
Bas Barish Ka Musam Hai Par Dil Ki Khuhis Kuain Jane,
Meri Payas Ka Yehsas Kuain Jane,


 

 


जब भी होगी पहली बारिश तुमको सामने पाएंगे।
वो बूंदो से भरा चेहरा तुम्हारा हम कैसे देख पाएंगे।

Jab Bhi Hogi Pahli Barish Tumko Samne Payege,
Wo Bundo Se Bhara Chehra Tumhara Kaise Dekh Payege,



कल उसकी याद पुरी रात आती रही।
हम जागे पुरी दुनिया सोती रही।
आसमान में बिजली पुरी रात होती रही।
बस एक बारिश थी जो मेरे साथ रोती रही।

Kal Uski Yad Puri Rat Aati Rhi,
Ham Jage Puri Diniya Soti Rhi,
Aasman Me Bijli Puri Rat Hoti Rhi,
Bas Ek Barish Thi Jo Mere Sath Roti Rhi,


 


बादलो से कह दो जरा सोच समझ के बरसे।
अगर हमें उसकी याद आ गयी तो मुलाकात बराबरी का होगा

Badalo Se Kam Do Jra Soch Samajh Ke Barse
Agar Hame Uaski Yad Aa Gyi To,
Mulakat Barabri Ka Hoga,


barish shayari in hindi sad


दुआ बारिश की करते हो मगर छतरी नहीं रखते।
भरोसा हैं नहीं तुमको खुद पर क्या जरा सा भी।

Duaa Barish Ki Karte Ho Magar,
Chatri Nhi Rakhte
Bharosa Hai Nhi Tumko Khud,
Par Kya Jra Sa Bhi


 


तपिश और बढ़ गई इन चंद बूंदो के बाद।
काले सियाह बादल ने भी बस यूँ ही बहलाना मुझे।

Tpis Our Bad Gyi Ean Chand Bundo Ke Bad,
Kale Siyah Badal Ne Bhi Bas,
Yu Hi Bahlaya Mujhe,



Barish Shayari in Hindi,

भिगेँगे जो किसी रोज हम मुहब्बत की बरसात में।
फिर कमजोर से इस दिल को इश्क़ का बुखार पक्का हैं।

Bhigege Jo Kisi Roj Ham Muhbbt,
Barasat Me,
Fhir Kamjor Se Eas Dil Ko Eask Ka,
Bhukhar Pakka Hai,


 


खूब हौसला बढ़ाया आँधियो ने धुल का।
मगर दो बूंद बारिश ने औकात बता दी।

Khub Huasla Badaya Aadhiyo Ne Dhul Ka,
Magar Do Bund Barish Ne Oukat Bta Di,


 


जो मुँह को आ रही थी वो लिपटी हैं पाँव से।
बारिश के बाद मिट्टी की फ़ितरत बदल गयी।

Jo Muh Ko Aa Rhi Thi Wo Lipti Hai Paw Se,
Barish Ke Bad Mitti Ki Fhitrat Badal Gyi,


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi •••••••••💦


आज फिर तेरी याद आई बारिश को देख कर।
दिल पे जोर ना रहा अपनी बेबसी को देख कर।
रोये इस कदर तेरी याद में।
के बारिश भी थम गई मेरी बारिश देख कर।

Aaj Fhir Teri Yad Aayi Barish Ko Dekh Kar,
Dil Pe Jor Na Rha Apni Bebsi Ko Dekh Kar,
Roye Eas Kadar Teri Yad Me,
Ke Barish Bhi Dham Gyi Meri Barish Dekh Kar


Sad Barish Shayari


परदेस में क्या महसूस करे बारिश का मज़ा मिट्टी की महक।
जब गाव में अपने होती हैं बरसात से खुशबू आती हैं।

Pardesh Me Kya Mahsus Kre Barish Ka Maja, Mitti Ki Mahak
Jab Gaw Me Apne Hoti Hai Barsat Se Khusbu,
Aati Hai,



 

Barish Shayari in Hindi
Barish Shayari in Hindi

कही फिसल ना जाओ जरा संभल के रहना।
मौसम बारिश का भी हैं और मुहब्बत का भी हैं।

Kahi Fhisal Na Jaoo Jra Sambhal Ke Rahna,
Muisam Barish Ka Bhi Hai Our,
Muhbbt Ka Bhi Hai,


 


मत पूछ कितनी मुहब्बत हैं मुझे उससे।
बारिश की बूँद अगर छु ले तो दिल में आग लग जाती हैं।

Mat Puchh Kitni Muhbbt Hai Mujhe Usse,
Barish Ki Bund Agar Chu Le To Dil Me,
Aag Lag Jati Hai


barish shayari status,


जब जब आता है यह बरसात का मौसम तेरी याद।
होती हैं साथ हरदम।
इस मौसम मे नहीं करेंगे याद तुझे यह सोचा हैं हमने।
पर फिर सोचा की बारिश को कैसे रोक पायेगे हम।

Jab Jab Aata Hai Yah Barsat Ka Musam Teri,
Yad Hoti Hai Sath Hardam,
Eas Muisam Me Nhi Krege Yad Tijhe Yah,
Socha Hai Hamne,
Par Fhir Socha Ki Barish Ko,
Kaise Rok Payege Ham,


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi •••••••••💦


आज भिगी हैं पलकें किसी की याद में।
आकाश भी सिमट गया अपने आप में।
ओस की बूंद ऐसी गिर हैं जमीन पर।
मानो चाँद भी रोया हो उनकी याद में।

Aaj Bhigi Hai Palke Kisi Ki Yad Me,
Aakas Bhi Simat Gya Apne Aap Me,
Oos Ki Bund Yesi Gir Hai Jamin Par,
Mano Chand Bhi Roya Ho Uanko Yad Me,



बारिश के बूंदो में झलकती हैं तस्वीर उनकी।
और हम उनसे मिलने की चाहत में भीग जाते हैं।

Barish Ke Bundo Me Jhalkti Hai Taswir Uanki,
Our Ham Uanse Milne Ki Chaht Me,
Bhig Jate Hai


 


जिसको आने से मेरे जख़्म भरा करते थे।
अब वो मौसम मेरे जख़्मो को हरा करता हैं।

Uasko Aane Se Mere Jakham Bhara Karte the,
Ab Wo Muisam Mere Jakhmo Ko,
Hra Karta Hai,


💓••••••••• Barish Shayari in Hindi •••••••••💦


हमे क्या पता था ये मौसम यू रो परेगा।
हमने तो आसमा को बस अपनी दास्तान सुनाई हैं।

Hame Kya Pta Tha Ye Muisam Yu Ro Prega,
Hamne To Aasma Ko Bas Apni Dastan,
Sumaei Hai,


barsat shayari in hindi,


ऐ बारिश ज़रा थम के बरस।
जब मेरे यार आ जाए तो जम के बरस।
पहले ना बरस की वो आ ना सके।
फिर इतना बरस की वो जा ना सके।

Ye Barish Jra Tham Ke Baras,
Jab Mere Yar Aajye To Jam Ke Baras,
Pahle Na Baras Ki Wo Aa Na Ske,
Fhir Eatna Baras Ki wo Ja Na Ske,.

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *