Chand Shayari in Hindi

Chand Shayari in Hindi | Chand Raat shayari in hindi | Latest 2021 चाँद शायरी

Chand Shayari In Hindi – Chand Hamesa Hi Payar Ki Nisani Rha Hai | Hamesa Dil Ki Tarap Ko Kam Karne Me Sath Deta Hai | Payar Ke Es Yehsas Ko Chand Bina Khe Hi Samjh Jata Hai,
Koei Sath Ho Ya Na Ho Rat Ko Chand Hamesa Aapke Sath Hai | Har Aasik Ko Apne Payar Ke Najar Me Chand Najar Aata Hai | Lekin Chand Me To Dag Dikhta Hai | Par Wo Dag Bedag Najar Aati Hai | Muhbbt Me Apne Yar Ki Tarifh Karne Ki Bat Aati Hai | To Ham Kahte Hai Tu Chand Se Kam Nhi | To Dosto Aaj Ham Apko Chand Shayari In Hindi Me Laye Hai Agar Pasand Aaye To Apne Dosto Ko Shear Kre |


Chand ke upar shayari hindi


Chand Shayari in Hindi
Chand Shayari in Hindi

 

1.
रातो में टुटी छतों पे टपकता है चाँद।
बारिशों सी हरकते भी करता हैं चाँद।Rato Me Tuti Chato Pe Tapkta Hai Chand,
Baris Si Harkte Bhi Karta Hai Chand,

2.
डूब चुका जब नील गगन की झेल में तेरा हर वादा।
चमक रहा था मेरा दिल में फिर भी तेरे गम का चाँद।Dub Chuka Jab Nil Gagan Ki,
Jhe Me Tera Har Wada,
Chamk Rha Tha Mera Dil Me Fhir,
Bhi Tere Gam Ka Chand,

•••••••••• Chand Shayari in Hindi ••••••••••

3.
बंद रखते हैं जुबान लब नहीं खोला करते।
चाँद के सामने तारे नहीं बोला करते।Band Rakhte Hai Juban Lab Bhi Khola Karte,
Chand Ke Samne Tare Nhi Bola Karte,

4.
जिसके हिस्से में रात आयी हैं।
यकीन जानिये उसके हिस्से में चाँद भी होगा।Jiske Hisse Me Rat Aayi Hai,
Yakin Janiye Uaske Hisse Me,
Chand Bhi Hoga,

5.
मुहब्बत में झुकना कोई अजीब बात नहीं।
चमकता सूरज भी तो ढल जाता हैं चाँद के लिए।Muhbbt Me Jhukna Koei Ajib Bat Nhi,
Chamkta Suraj Bhi Dal Jata Hai Chand Ke Liye

•••••••••• Chand Shayari in Hindi ••••••••••

6.
रुसवाई का डर हैं या अंधेरो से मुहब्बत खुदा जाने।
अब मै चाँद को अपने आँगन मे उतरने नहीं देते।Riswaei Ka Dar Hai Ya Athero Se Muhbbt,
Khuda Jane,
Ab My Chand Ko Apne Aagan,
Me Utarne Nhi Dete,

Shayari on chandni raat

7.
तुम सुबह का चाँद बन जाओ मैं सांझ का सूरज हो जाऊँ।
मिले हम तुम यूँ भी कभी तुम मै हो जाऊँ मै तुम हो जाऊ।Tum Subah Ka Chand Ban Jaoo,
My Sajha Ka Suraj Ho Jauu,
Mile Ham Tum Yu Bhi Kabhi,
Tum My Ho Jau My Tum Ho Jauu,

8..
ना जाने किस रैन बसेरो का तालाश हैं इस चाँद को।
रात भर बिना कम्बल भटकता रह हैं इस सर्द रातो में।Na Jane Kis Ruan Basero Ka Talas,
Hai Es Chand Ko,
Rat Bhar Bina Kambal Bhatkta Raha Hai,
Es Srad Rato Me,

•••••••••• Chand Shayari in Hindi ••••••••••

9.
तुम आ गये हो तो फिर चाँदनी सी बाते हो।
जमीं पे चाँद कहाँ रोज रोज उतरता हैं।Tum Aa Gye Ho Fhir Chandni Si Bate Ho,
Jami Pe Chand Kaha Roj Roj Utarta Hai,

10.
आप कुछ मेरे आईना ए दिल में आए।
जिस तरह चाँद उतर आया हो पैमाने में।Aap Khuch Mere Aaeina Ye Dil Me Aaye,
Jis Tarah Chand Utar Aaya Ho Paimane Me,

Chand shayri hindi

11.
चाँद मत माग मेरे चाँद जमी पर रहकर।
खुद को पहचान मेरी जान खुदी में रहकर।Chand Mat Mag Mere Chand Jami Par Rahkar,
Khud Ko Pahchan Meri Jan Khudi Me Rahkar,

Chand Shayari in Hindi
Chand Shayari in Hindi

12.
ऐ सनम जिसने तुझे चाँद सी सुरत दी हैं।
उस ही मालिक ने मुझे भी तो मुहब्बत दी हैं।Ye Sanam Jisne Tujhe Chand Di Surat Di Hai,
Uas Hi Malik Ne Mujhe Bhi To Muhbbt Fi Hai,

13.
हम – सफर हो तो कोई अपना सा।
चाँद के साथ चलोगे कब तक।Ham Safhar Ho To Koei Apna Sa,
Chand Ke Sath Chaloge Kab Tak,

•••••••••• Chand Shayari in Hindi ••••••••••

14.
मुझको मालुम हैं महबूब परस्ती का अज़ाब।
देर से चाँद निकला भी गलत लगता हैं।Mujhko Malum Hai Mahbub Parsti Ka Aajab,
Ser Se Chand Nikla Bhi Galat Lagta Hai,

15.
चाँद तो अपनी चाँदनी को ही निहारता हैं।
उसे कहाँ खबर कोई चकोर प्यासा रह जाता हैं।Chand To Apani Chadni Ko Hi Niharta Hai,
Use Kaha Khabar Koei Chakor,
Payasa Rah Jata Hau

16.
दमक तो सकते हैं हम भी गैरों की चमक चुराके।
मगर उधार की रोशनी का चाँद बनना हमें मंजूर नहींDamak To Sakte Hai Ham Bhi
Gairo Ki Chamak Churake,
Magar Uthar Ki Roasni Ka Chand,
Banna Hame Manjur Nhi,

17.
कोन कहता हैं कि चाँद तारे तोड़ लाना जरुरी हैं।
दिल को छू जाए प्यार से दो लफ्ज वही काफी हैं।Koan Kahta Hai Ki Chand Tare,
Tor Lana Jaruri Hai,
Dil Ko Chu Jaye Payar Se Do Lafhaj WHi Kafhi Hai,

•••••••••• Chand Shayari in Hindi ••••••••••

18.
इन आँखों को जब तेरे चाँद जैसे चेहरे का दीदार हो जाता हैं।
सच कहू वो दिन कोई सा दिन हो लेकिन त्योहार हो जाता हैं।Ean Aakho Ko Jab Tere Chand Jaise,
Chebre Ka Didar Ko Jata Hai,
Sach Kahu Wo Din Koei Sa Din Ho,
Lekin Tayohar Ho Jata Hai,

19.
ख्वाबो कि बाते वो जाने जिनका नींद से रिश्ता हो।
मैं तो रात गुजराती हूँ चाँद को देखने में।Khuwabo Ki Bate Jane Jinka,
Nund Se Rista Ho
My To Rat Gujarti Hu Chand Ko Dekhne Me,

Chand Shayari Feel The Words

20.
चाँद से प्यारी चाँदनी से प्यारी रात।
रात से प्यारी ज़िन्दगी ज़िन्दगी से प्यारे आप।Chand Se Payari Chandni Se Payari Rat,
Rat Se Payari Jiandgi Jiandgi Se Payari Aap,

21.
तस्वीर बना कर तेरी आसमा पे टांग आया हूँ।
और लोग पुछते हैं आज चाँद इतना बेदाग़ कैसे हैं।Taswir Bana Kar Teri Aasma Pe Tag Aaya Hu,
Our Log Puchte Gai Aaj Chand,
Eatna Bedag Kaise Hai,

•••••••••• Chand Shayari in Hindi ••••••••••

22.
रात में एक टुटता तारा देखा बिलकुल मेरे जैसा था।
चाँद का कोई फर्क नहीं बिलकुल तेरे जैसा था।Rat Me Ek Tutta Tara Dekha Bilkul,
Mere Jaisa Tha,
Chand Ka Koei Fhark Nhi Bilkul,
Tere Jaisa Tha,

 

Chand Shayari in Hindi
Chand Shayari in Hindi

 

23.
चाँद और मै सितारा होता आसमान में एक
आशियाना हमारा होता।
लोग तुम्हें दुर से देखते नजदीक से देखने का हक सिर्फ हमारा होता।Chand Our My Sitara Hota Aasman Me,
Ek Aasiyana Hamara Hota,
Log Tumhe Dur Se Dekhte Najdik Se Dekhne,
Ka Hak Shirfh Hamara Hota,

24.
रात भर तेरी तारिफ़ करता रहा चाँद से।
चाँद इतना जला कि सूरज हो गया।Rat Bhar Tere Tarifh Karta Rha Chand Se,
Chand Eatna Jala Ki Suraj Ho Gya,

Best Shayari in hindi,

24.
चाँद के साथ कोई दर्द पुराने निकले।
कितने गम थे जो तेरे गम के बहाने निकले।Chand Ke Sath Koei Dard Purane Nikle,
Kitne Gam The Jo Tere Gam Ke Bahane Nikle,

•••••••••• Chand Shayari in Hindi •••••••••

25.
सारी रात गुजारी हमने इसी इंतजार में।
कि अब तो चाँद निकलेगा आधी रात में।Sari Rat Gujari Hamne Esi Eantijar Me,
Ki Ab To Chand Niklega Aadhi Rat Me,

26.
हमारे हाथों में इक सक्ल चाँद जैसी थी।
तुम्हें ये कैसे बताये वो रात कैसी थी।Hamaro Hatho Me Eak Sakal Chand Jaisi Thi,
Tumhe Ye Kaeise Bataye Wo Rat Kaisi Thi,

27.
मुहब्बत थी तो चाँद अच्छा था।
उतर गयी तो दाग भी देखने लगे।Muhbbt Thi To Chand Achcha Lagta Tha,
Utar Gyi To Dag Bhu Dekhne Lage,

28.
बेचैन इस कदर था कि सोया ना रात भर।
पलकों से लिख रहा था तेरा नाम चाँद पर।Bechean Es Kadar Tha Ki Soya Na Rat Bhar,
Palko Se Likh Rha Tha Tera Nam Chand Par,

•••••••••• Chand Shayari in Hindi ••••••••••

29.
कुछ तुम कोरे कोरे से कुछ हम सादे सादे से।
एक आसमान पर जैसे दो चाँद आधे आधे से।Kuch Tum Kore Kore Se Kuch Ham,
Sade Sade Se,
Ek Aasman Par Jaise Do Chand,
Aathe Aathe Se

Shayari on Chand Sitare,

30.
ना चाह कर भी मेरे लब पे ये फ़रियाद आ जाती हैं।
ऐ चाँद सामने ना आ किसी की याद आ जाती हैं।Na Chah Kar Bhi Mere Lab Pe Ye
Fhariyad Aa Jati Hai,
Ye Chand Samne Na Aa Kisi Ki
Yad Aa Jati Hai,

31.
सुबह हुई कि छेरने लगता हैं सूरज मुझको।
कहता हैं बड़ा नाज था अपने चाँद पर अब बोलो।Subah Huei Ki Cherne Lagta Hai Suraj Mujhko,
Kahta Hai Bara Naj Tha Apne Chand
Par Ab Bolo,

32.
मेरा और उस चाँद का मुकद्दर एक जैसा हैं।
वो तारों में तन्हा मैं हजारों में तन्हा।Mera Our Us Chand Ka Mukdar Ek Jaesa Hai,
Wo Taro Me Tanha My Hajaro Me Tanha,

 

Chand Shayari in Hindi
Chand Shayari in Hindi

33.
चलो चाँद का किरदार अपना ले हम दोस्तों।
दाग अपने पास रखे और रौशनी बाँट दे।Chalo Chand Ka Kirdar Apna Le Ham Dosto,
Dag Apne Pas Rakhe Our Ruasni Bat De,

•••••••••• Chand Shayari in Hindi ••••••••••

34.
उस के चेहरे की चमक के सामने सदा लगता हैं।
आसमाँ पे चाँद पुरा था मगर आधा लगता हैं।Uas Ke Chehre Ki Chamk Ke Samne
Sada Lagta Hai,
Aasma Pe Chand Pura Tha Magar
Aada Lagta Hai,

35.
वो चाँद कह के गया था कि आज निकलेगा।
तो इंतज़ार में बैठा हुआ हूँ आज शाम से मै।Wo Chand Kah Ke Gya Tha Aaj Niklega,
To Eantihar Me Bautha Hu Aaj Sam Se My,

Shayari on chandni raat

36.
ना चाँद चाहिये ना फलक चाहिए।
मुझे बस मेरी एक झलक चाहिए।Na Chand Chahiye Na Fhalk Chahiye,
Mujhe Bas Meri Ek Jhalak Chahiye,

37.
एक ये दिन हैं जब चाँद को देखे मुद्दत बीती जाती हैं।
एक वो दिन थे जब चाँद खुद हमारी छत पे आता करता था।Ek Ye Din Hai Jab Chand Ko Dekhe,
Mudat Biti Jati Hai,
Ek Wo Din The Jab Chand Khud,
Hamari Chat Pe Aata Karta Tha,

•••••••••• Chand Shayari in Hindi ••••••••••

38.
ऐ चाँद चला जा क्यों आया है तू मेरी चौखट पर।
छोड़ गया वो शख्स जिसके धोखे में तुझे देखते थे।Ye Chand Chala Ja Kyo Aaya Hai,
Tu Meri Chukhat Par,
Chor Gya Wo Sakhs Jiske Dhokhe,
Me Tujhe Dekhte The,

39..
वो थका हुआ मेरी बाहो में जरा सो गया था तो क्या हुआ।
अभी मैं ने देखा हैं चाँद भी किसी शाख ए गुल पे झुका हुआ।Wo Thaka Huaa Meri Baho Me Jara,
So Gya Tha To Kya Huaa,
Abhi My Ne Dekha Hai Chand Bhi
Kisi Sakh Ye Gul Pe Jhuka Huaa,

Chand Shayari 

40..
बेवजह मुस्कुरा रहा हैं चाँद।
कोई साजिश छुपा रहा हैं चाँद।Bewjah Muskura Rha Hai Chand,
Koei Sajis Chupa Rha Hai Chand,

41.
दिन में चैन नहीं ना होश हैं रात में।
खो गया है चाँद भी देखो बादल के आगोश में।Din Me Chein Na Hos Hai Rat Me,
Kho Gya Hai Chand Bhi Dekho
Badal Ke Aagos Me,

Chand Shayari in Hindi
Chand Shayari in Hindi

 

 

42.
कितना भी कर ले चाँद से इश्क़।
रात के मुकद्दर में अधियारे हि लिये हैं।Kitni Bhi Kar Le Chand Se Eask,
Rat Ke Mukdar Se Aadhiyare Hi Liye,

Mera chand shayari,

43.
खुबसुरत गजल जैसा हैं तेरा चाँद सा चेहरा।
निगाहे शेर पढ़ती हैं तो लव इरसाद करते हैं।Khubsurat Gajal Jeisa Hai Tera
Chand Sa Chehra,
Nigahe Sear Pathti Hai Law Earsad Karte Hai,

44.
क्यों मेरी तरह रातो को रहता हैं परेशान।
ऐ चाँद बता किससे तेरी आँख लड़ी हैं।Kyo Meri Tarah Rato Ko Rahta Hai Paresan,
Ye Chand Bta Kisse Teri Aakh Lari Hai,

•••••••••• Chand Shayari in Hindi ••••••••••

45.
मन्तजिऱ हूँ कि सितारें की जरा आँखं लगे।
चाँद को छत पे बुला लूगा इशारा करके।Mantjir Hu Ki Sitare Ki Jra Aakha Lge,
Chand Ko Chat Pe Bula Luga Eaara Karke
Chand Shayari in Hindi
Chand Shayari in Hindi

46.
रात भर आसमां में हम चाँद ढूढ़ते रहे।
चाँद चुपके से मेरे आँगन उतर आया।Rat Bhar Aasma Me Ham Chand Tutte Rhe,
Chand Chpke Se Merw Aagan Utar Aaya,

Shayari on Chand in hindi,

47.
तुझको देखा तो फिर उसको ना देखा मैने।
चाँद कहता रह गया मै चाँद हूँ मैं चाँद हूँ।Tujhko Dekha To Fhir Uasko Na Dekha Maine,
Chand Kahta Rah Gya My Chand,
Hu My Chand Hu,

48.
आज टुटेगा गुरुर चाँद का तुम देखना यारो।
आज मैने उन्हें छत पर बुला रखा हैं।Aaj Tutega Gurur Chand Ka Tum Dekhna Yaro,
Aaj Maine Uanhe Chat Par Bula Rakha Hai,

•••••••••• Chand Shayari in Hindi ••••••••••

49.
तु अपनी निगाहो से ना देख खुद को।
चमकता हीरा भी तुझे पत्थर लगेगा।
सब कहते होगे चाँद का टुकडा हैं तू।
मेरी नजर चाँद तेरा टुकडा लगेगा।Tu Apni Nigahe Se Na Dekh Khud Ko,
Chamkta Hira Bhi Tujhe Patthar Lagega,
Sab Kahte Hoge Chand Ka Tukra Hai Tu,
Meri Najar Chand Tera Tukra Lgega,

50.
एक अदा आपकी दिल चुराने लगी।
एक अदा आपकी दिल में बस जाने लगी।
चेहरा आपका चाँद सा और एक।
हसरत हमारी उस चाँद को पाने की।Ek Ada Aapki Dil Churane Lgi,
Ek Ada Aapki Dil Me Bas Jane Lagi,
Chehra Aapka Chand Sa Our Ek,
Hasrat Hamari Us Chand Ko Pane Ki,

Chand aur chakor ki Shayari

51.
ऐ चाँद मुझे बता तू मेरा क्या लगता हैं।
क्यों मेरे साथ सारी रात जागा करता हैं।
मैं तो बन बैठा हू दिवाना उनके प्यार में।
क्या तू भी किसी से बेपनाह मुहब्बत करता हैं।Ye Chand Mujhe Bta Mera Kya Lagta Hai,
Kyu Mere Sath Sari Rat Jaga Karta Hai,
My To Ban Baitha Hu Diwana Unke Payar Me,
Kyu Tu Bhi Kisi Se Bepnah Muhbbt Karta Hai,

•••••••••• Chand Shayari in Hindi ••••••••••

52.
पत्थर की दुनिया जज़्बात नहीं समझती।
दिल में क्या है वो बात नहीं समझती।
तन्हा तो चाँद भी सितारों के बिच हैं।
पर चाँद का दर्द वो रात नहीं समझती।Patthar Ki Duniya Jajbat Nhi Samjhti,
Dil Me Kya Hai Wo Bat Nhi Samjhti,
Tanha To Chand Bhi Sitaro Ke Bich Hai,
Par Chand Ka Dard Wo Rat Nhi Samjhti,

53.
ढूँढ़ता हूँ मैं जब अपनी ही खामोशी को।
मुझे कुछ काम नहीं दुनिया कि बातों से।
आसमाँ दे ना सका चाँद अपनी आगन का।
माँगती रह गई धरती कई रातो में।Dudta Hu My Apni Hi Khamosi Ko,
Mujhe Kuch Kam Nhi Duniya Ki Bato Se,
Aasma De Na Saka Chand Apni Aagan Ka,
Magti Rah Gyi Dharti Kaei Rato Me,

Chand Love Shayari in hindi,

54.
कितना हसीन चाँद सा चेहरा हैं।
उसपे सवाब का रंग गहरा हैं।
खुदा को यकीन ना था वफा पे।
तभी चाँद पे तारों का बसेरा हैं।Kitni Hasin Chand Sa Chehra Hai,
Uaspe Sawab Ka Rang Gahra Hai,
Khud Ko Ykin Na Tha Wafha Pe,
Tbhi Chand Pe Taro Ka Basera Hai,

•••••••••• Chand Shayari in Hindi ••••••••••

55.
चाँद तारों का कसम खाता हूँ।
मैं बहारो कि कसम खाता हूँ।
कोई आप जैसा नजर नहीं आया।
मैं नजारो कि कसम खाता हूँ।Chand Taro Ka Kasam Khata Hu,
My Baharo Ki Kasam Khata Hu,
Koei Aap Jaisa Najar Nhi Aaya,
My Najaro Ki Kasam Khata Hu,

56.
ऐ दिल ना जाने क्या कर बैठा।
मुझसे बिना पुछे ही फैसला कर बैठा।
इस जमीन पर टूटा सितारा भी नहीं गिरता।
और ऐ पागल चाँद से मुहब्बत कर बैठा।Ye Dil Na Jane Kya Kar Baitha,
Mujhse Bina Puche Hi Fhaisla Kar Baitha,
Es Jamin Par Tuta Sitara Bhi Nhi Girta,
Our Ye Pagal Chand Se Muhbbt Kar Baitha,

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *