dard bhari sharabi shayari

Dard Bhari Sharabi Shayari | Shayabi Shayari | शराबी शायरी

Dard Bhari Sharabi Shayari – यह खास पोस्ट उन सभी दोस्तों के लिए हैं जिन्हें जीवन में शराब को कभी छोडा नहीं चाहे वो बोझ सा लगाने लगा हैं या अपनी मौत हैं या किसी बेवफा के प्यार में पर पिना जरूरी हैं चाहे मर क्यों ना जाए कुछ लोग होते है जो अपने साथ हुई बेवफाई जुदाई

   या यूँ कह ले कि अपने सच्चे प्यार को भुलाने के लिए शराब का सहारा लेते है इसलिए मैंने सोचा क्यों ना आप लोगो के साथ बढ़िया और बेस्ट शराबी शायरी जैसे कि Dard Bhari Sharabi Shayari जिसे आप शेयर जरुर करे दारू शायरी को शेयर करना ना भूले |






अब के सावन में सब का हिसाब कर दूगा,
जिसका जो भी बाकी है वो भी हिसाब कर दूगा,
और मुझे इस गिलास में कैद ही रख वरना,
पुरे शहर का पानी शराब कर दूगा,

Ab Ke Sawan Me Sab Ka Hisab Kar Duga,
Jiska Jo Bhi Baki Hai Wo Bhi Hisab Kar Duga,
Pur Mujhe Eas Ginas Me Kaid Hi Rakh Warna,
Pure Sahar Ki Pani Sarab Kar Duga,


Funny Sharabi Shayari in Hindi


पानी में विस्की मिलाओ तो नशा चढ़ता हैं,
पानी_में रम मिलाओ तो नशा चढ़ता हैं,
पानी में ब्रेडी मिलाओ तो नशा चढ़ता हैं,
साला पानी में ही कुछ गड़बड़ हैं,

Pani Me Woski Milaoo To Nsa Chathta Hai,
Pani-Me Ram Milaoo To Nsa Chathta Hai,
Pani Me Brendi Milao To Nsa Chathta Hai,
Sala Pani Me Hi Kuchh Garbar Hai,


••••••• Dard Bhari Sharabi Shayari •••••••


एक उलफत के नाम एक जाम मोहब्बत के नाम,
एक जाम वफा के नाम पुरी बोतल बेवफ़ा के नाम,
और पुरा ठेका दोस्तों के नाम,

Ek Ualfhat Ke Nam Ek Jam Mohbbat Ke Nam,
Ek Jam Wafha Le Nam Puri Botal Bewfha Ke Nam,
Our Pura Theka Dosto Ke Nam,


 


पिते थे हम शराब उसने छुड़ाई कसम देकर,
महफिल में गए थे हम यारो ने पिलाई उसकी कसम देकर,

Pite The Ham Sarab Usne Churayi Kasam Dekar,
Mahfhil Me Gye The Ham Yaro Ne Pilaei,
Uaski Kasam Dekar,


 


महफिल में इस कदर पिने का दैर था,
हमको पिलाने के लिए सबका जोर था,
पी गए हम इतनी यारो के कहने पर,
न अपना गैर था ना जमाने में कोई गैरा था,

Mahfhil Me Eas Kadar Pine Ka Duar Tha,
Hamko Pilane Ke Liye Sabka Jor Tha,
Pi Gye Ham Eatni Yaro Ke Kahne Par,
Na Apna Gair Tha Na Jamane Me Koei Gair Tha,


 


महकता हुआ जिस्म तेरी गुलाब जैसा हैं,
नीद में सफर में तू ख्वाब जैसा हैं,
दो घुट पि ले तो आँखों कि मस्तियाँ,
नशा तेरी आँखों का शराब के जाम जैसा हैं,

Mahkta Huaa Jism Teri Gulab Jaisa Hai,
Nind Me Safhar Me Tu Khuwab Jaisa Hai,
Do Ghut Pi Le To Aakho Ki Mastiya,
Nsa Teri Aakho Ka Sarab Ke Jam Jaisa Hai,


💟 Sharabi aashiq shayari ❣️


तेरी आँखों से यू तो सागर भी पिए हैं मैने,
तुझे क्या खबर जुदाई के दिन कैसे जिये हैं मैने,

Teri Aakho Se Yu To Sagar Bhi Piye Hai Maine,
Tujhe Kya Khabar Judayi Ke Din Kaise,
Jiye Hai Maine,


••••••• Dard Bhari Sharabi Shayari •••••••


इतनी पिता हूँ कि मदहोश रहता हूँ,
सबकुछ समझता हूँ पर खामोश रहता हूँ,
जो लोग करते हैं मुझे गिराने कि कोशिश,
मैं अक्सर उन्हीं के साथ रहता हूँ,

Eatni Pita Hu Ki Mahdhos Rahta Hu,
Sabkuch Samjhta Hu Par Khamos Rahta Hu,
Jo Log Karte Hai Mujhe Girane Ki Kosis,
My Aksar Uanhi Ke Sath Rahta Hu,


 


हर किसी बात का जवाब नहीं होता,
हर जाम इश्क़ मे खराब नहीं होता,
यू तो झूम लेते हैं नशे में रहने वाले,
मगर हर नशे का नाम शराब नहीं होता,

Har Kisi Bat Ka Jawab Nhi Hota,
Har Jam Ishq Me Khrab Nhi Hota,
Yu To Jhum Lete Hai Nse Me Rahne Wale,
Magar Har Nse Ka Nam Sarab Nhi Hota,


 


शाम थी वो कातिल उसकी याद ले आई,
थे हम तनहा हमे मैखाने ले आई,
साकी ने तो और भी जुल्फ ढ़ाया हम पर,
की छलक गया पैमाना ऐसी आँखों से पिलाई,

Sam Thi Wo Katil Uaski Yad Le Aaei
The Ham Tanha Hame Mukhane Le Aayi,
Saki Ne To Our Bhi Jilam Dhaya Ham Par,
Ki Chalak Gya Pamana Yesi Aakho Se Pilayi,


 


नशा मोहब्बत का हो या शराब का,
होश दोनों मे खो जाते हैं,
फर्क सिर्फ इतना है कि शराब सुला देती हैं,
और मोहब्बत रुला देती हैं,

Nsa Mohbbat Ka Ho Ya Sarab Ka,
Hos Dono Me Kho Jate Hai,
Fhark Shirf Eatna Hai Ki Sarab Sula Deti Hai,
Our Mohbbat Rula Deti Hai,


😀 Sharabi Shayari comedy 😉


काश हमे भी कोई समझाने वाला होता,
तो आज हम इतने नासमझ ना होते,
काश कोई इश्क़ का जाम पिलाने वाला होता,
तो आज हम भी शराब के दिवाने ना होते,

Kas Hame Bhi Koei Samjhne Wala Hota,
To Aaj Ham Eatne Nasamjh Na Hota,
Kas Koei Ishq Ka Jam Pilane Wala Hota,
To Aaj Ham Bhi Sarab Ke Diwane Na Hote,


••••••• Dard Bhari Sharabi Shayari •••••••


शराबी इलज़ाम शराब को देता हैं,
आशिक़ इलजाम शबाब को देता हैं,
कोई नहीं करता कुबुल अपनी भूल,
कांटा भी इलजाम गुलाब को देता हैं,

Sarabi Ealjam Sarab Ko Deta Hai,
Aasik Ealjam Sabab Ko Deta Hai,
Koei Nhi Karta Kubul Apni Bhul,
Kata Bhi Ealjam Julab Ko Deta Hai,


 


मोहब्बत मुझे थी उनसे इतनी,
उसकी यादो मे दिल तड़पता रहा,
मैत भी मेरी शराब को रोक ना सकी,
कब्र में भी प्यास आता रहा,

Mohbbat Mujhe Thi Uanhe Eatni,
Uaski Yado Me Dil Tarpta Rha,
Muat Bhi Meri Sarab Ko Rok Na Saki,
Kabr Me Bhi Payas Aata Rha


 


नशा जरुरी है ज़िन्दगी के लिए,
पर सिर्फ शराब ही नहीं बेखुदी के लिए,
किसी के आँखों में डूब जा सको,
बड़ा हसी समुंदर हैं खुद खुशी के लिए,

Nsa Jaruri Hai Jiandgi Ke Liye,
Par Shirf Sarab Hi Nhi Bekhudi Ke Liye,
Kisi Ke Aakho Me Dub Ja Sako,
Bra Hasi Samundar Hai Khud Khusi Ke Liye,


 


ज़िन्दगी हैं जिने के लिए तो जिया क्यों नहीं जाए,
उसकी बेवफ़ाई ने दिया मौका तो पिया क्यों ना जाए,

Jiandgi Hai Jine Ke Liye To Jiya Kyo Nhi Jaye,
Uaski Bewfaei Ne Diya Muika To Piya Kyo Na Jaye,


💔Sharabi Shayari 2 lines❤


खाली जाम लिये बैठे हो उन आँखों कि बात करो,
रात बहुत हैं प्यास बहुत हैं बरसातो कि बात करो,

Khali Jam Liye Baithe Ho Uan Aakho Ki Bat Karo,
Rat Bahut Hai Payas Bahut Hai Barsato Ki Bat Kro,


••••••• Dard Bhari Sharabi Shayari •••••••


पिना चाहते थे हम सिर्फ एक जाम,
मगर पिते पिते शाम से सवेरा हो गई,
बहके बहके कदम धीरे धीरे चले,
इसलिए आने मे जरा सी देर हो गई,

Pina Chahte The Ham Shirf Ek Jam,
Magar Pite Pite Sam Se Sawera Ho Gyi,
Bahke Bahke Kadam Dhire Dhire Chle,
Easliye Aane Me Jra Si Dear Ho Gyi,


 


शराबी नाम ना दो मुझको,
मैं तो कभी कभी पिता हूँ,
पहली बार आया हूँ मैं कदे में,
रोज तो घर पर ही पिता हूँ,

Sarabi Nam Na Do Mujhko,
My To Kabhi Kabhi Pita Hu,
Pahli Bar Aaya Hu My Kade Me,
Roj To Ghar Par Hi Pita Hu,


 


कुछ नशा आपकी बात का हैं,
कुछ नशा धीमी बरसात का हैं,
हमे आप यू ही शराबी मत कहिये,
ये दिल पर आपसे पहली मुआकात का है,

Kuch Nsa Aapki Bat Ka Hai,
Kuch Nsa Dhimi Barsat Ka Hai,
Hame Aap Yu Hi Sarabi Mat Kahiye,
Ye Dil Par Aapse Pahli Mulakat Ka Hai,


 


चुप चाप चल रहे थे अपनी मंजिल कि ओर,
फिर ठेके पर नज़र पड़ी और गुमराह से हो गए हम,

Chup Chap Chal Rhe The Apni Manjil Ki Oor,
Fhir Theke Par Najar Pari Our Gumrah Se Ho Gye Ham,


Dard Bhari Sharabi Shayari in Hindi


मेरी कब्र पे गुलाब लेके मत आना,
ना ही हाथो मे चिराग लेके आना,
प्यासा हु मैं बरसो से जानम,
बोतल शराब कि और एक गिलास लेके आना,

Meri Kabr Pe Gulab Leke Mat Aana,
Na Hi Hatho Me Chirag Leke Aana,
Payas Hu My Barso Se Janam,
Botal Sarab Ki Our Ek Gilas Leke Aana,


••••••• Dard Bhari Sharabi Shayari •••••••


5 गिलास दुध पियो फिर दिवार हिलाने कि कोशिश करो,
नहीं हिलेगी 5 पैक दारु पियो और सिर्फ दीवार कि तरफ,
देखो और फिर दीवार अपने आप हि हिलने लगे गी,

5 Gilas Dhuth Piyo Fhir Diwar Hilane Ki Kosis Kro,
Nhi Hilegi 5 Paik Daru Piyo Our Shirf Diwar Ki,
Taraf Tekho Our Fhir Diwar Apne Aap Hi Hilne,
Lge Gi,


 


एक शराबी दारु पी पी कर मर गया,
लेकिन उसकी दारु के प्रति श्रद्धा तो देखो,
वो मर के भी यह कह गया शराब तो ठीक थी,
पर मेरा लिवर ही कमजोर निकला,

Ek Sarabi Daru Pi Pi Kar Mar Gya,
Lekin Uaski Daru Ki Parti Sartha To Dekho,
Wo Mar Le Bhi Yah Kah Gya Sarab To Thik Tha ,
Par Mera Liwar Hi Kamjor Nikla,


👉 ये भी पढ़े

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *