Desh Bhakti Shayari in Hindi

Desh Bhakti Shayari in HindI images 2021 | Desh Bhakti Shayari | देशभक्ति

Desh Bhakti Shayari in Hindi – Dosti Ham Aapke Liye Desh Bhakti Shayari Laye Hai Desh Bhakti Har Deswahi Ke Dilo Me Honi Chahiye |


Aaj Kal Ke Log Uan Desh Bhakro Ko Bhul Rhe Hai Jinhone Apni Jan Ko Kurban Karke Hamare Desh Ko Aajad Karaya | Desh Aajad Hone Ke Bad Bhi Hamari Eaksha Ke Liye Bordar Par Hamare Liye Sainik Taynat Rahte Hai | Aaj Kal Ke Log Desh Bhakto Ko Bhul Gye Hame Uanhe Yad Dilana Ho Ki Jo Hamare Desh Ko Aajad Karaya Uske Liye Kuch Karna Chahiye | Uanke Ke Dil Me Jagah Banaye |


Aaj Aapko Ham Eas Post Me Desh Bhakti Shayari Likhe Hai Bta Dijiye Logo Ko Desh Kon Aajad Karaya Shayari Uanhe Jarur Bheje



Desh Bhakti Shayari Rahat Indori


Desh Bhakti Shayari in Hindi
Desh Bhakti Shayari in Hindi

तिरंगे ने मायूस होकर सरकार से पूछा कि ये क्या हो रहा हैं।
मेरा लहराने में कम और कफन में ज़्यादा इस्तेमाल हो रहा हैं।

Tirange Ne Mayus Hokar Sarkar Se Pichha,
Ki Ye Kya Ho Rha Hai,
Mera Lahrane Me Kam Our Kafhan Me Jayada,
Eastemal Ho Rha Hai,


💞•••••••• Desh Bhakti Shayari in Hindi ••••••••💔


दाबोगे अगर और उभर आयेगा भारत।
हर वार पर कुछ और निखर जायेगा भारत।
दस बीस जाहिलो को गलत फ़हमी हुई हैं।
दो चार धमाके से ही डर जाएगा भारत।

Daboge Agar Our Ubhar Aayege Bharat,
Har War Par Kuchh Our Nikhar Jayega Bharat,
Das Bis Jahilo Ko Galat Fhahmi Huei Hai,
Do Char Dhamake Se Hi Dar Jayega Bharat,


 


चाहता हूँ कोई नेक काम हो जाए।
मेरी हर साँस देश के नाम हो जाए।

Chahta Hu Koei Nek Kam Ho Jaye,
Meri Har Sas Desh Ke Name Ho Jaye,


 


हंसते हंसते फांसी चढ़ कर अपनी जान गवा दी।
और बदले में दे दी ये हमारी आजादी।

Haste Haste Fhasi Chadh Kar Apni Jan Gwa Di,
Our Badle Me De Di Ye Bamari Aajadi,


💞•••••••• Desh Bhakti Shayari in Hindi ••••••••💔


मन को खुद ही मगन कर लो।
कभी कभी शहीदों को भी नमन कर लो।

Man Ko Khud Hi Magan Kar Lo,
Kabhi Kabhi Sahido Ko Bhi Naman Kar Lo,


 


दिवाली में बसे~अली रमज़ान में बसे -राम।
ऐसा सुंदर होना चाहिए अपना हिंदुस्तान।

Diwali Me Base Ali – Ramjan Me Base Ram,
Yese Sundar Hona Chahiye Apna Hindustan,


desh bhakti shayari hindi mai,


शम्मा ए वतन की लै पर जब कुर्बान पतंगा हो।
होंठों पर गंगा हो और हाथों में तिरंगा हो।

Smma Ye Watan Ki Luy Par Jab Kurban Ptanga Ho,
Hotho Par Ganga Ho Our Hatho Me Tiranga Ho,


 


दिल से मर कर भी ना निकलेगी वतन की उलफत।
मेरे मिट्टी से भी खुशबू ए वतन आऐगी।

Dil Se Mar Kar Bhi Na Niklegi Watan Ki Ualfjat,
Mere Mitti Se Bhi Khusbu Ye Watan Aayegi,


 


जो अब तक ना खौला वो खून नहीं पानी हैं।
जो देश को काम ना आये वो बेकार जवानी हैं।

Jo Ab Tak Na Khula Wo Khun Nhi Pani Hai,
Jo Desh Ko Kam Na Aaue Wo Bekar Jawani Hai,


 


सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में हैं।
देखना है जोर कितना बाजू ए कातील में हैं।
वक्त आने दे बता देगे तुझे आसमा।
हम अभी से क्या बताये क्या हमारे दिल में हैं।

Sarfrosi Ki Tamnna Ab Hamare Dil Me Hai,
Dekhte Hai Jor Kitna Baju Ye Katil Me Hai,
Wakat Aane De Bta Dege Tujhe Aasma,
Ham Abhi Se Kya Bataye Kya Hamare Dil Me Hai,


💞•••••••• Desh Bhakti Shayari in Hindi ••••••••💔


लिख रहा हूँ मैं अंजाम जिसका कल आगाज आएगा।
मेरे हर एक लहू का कतरा इकबाल लाएगा।
मैं रहू या ना रहू पर यह वादा हैं तुमसे मेरा की।
मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आएगा।

Likh Rha Hu My Anjam Jiska Kal Aagaj Aayga,
Mere Har Ek Lhu Ka Katra Ekban Layga,
My Rhu Ya Na Rhu Par Yah Wada Hai Tumse
Mere Ki,
Mere Bad Watan Par Marne Walo Ka Sulab Aayga,


Desh bhakti shayari in hindi status


 

Desh Bhakti Shayari in Hindi

लड़े वो विर जवानो की तरह।
ठंड खून फैलाद हुआ।
मरते मरते भी कई मार गिराये।
तभी तो देश आजाद हुआ।

Lre Wo Wir Jawano Ki Tarah,
Thand Khun Fhulad Huaa,
Marte Marte Bhi Kaei Mar Giraya,
Tabhi To Deks Aajad Huaa,


 


किसी को लगता हैं हिन्दू खतरे में हैं।
इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गये हैं।
हैं नमन उनको जिनके सामने बौना हिमालय।
जो धरा पर गिर पड़े पर आसमानी हो गए हैं।

Kisi Ko Lagta Hai Hindu Khatre Me Hai,
Es Jagat Me Siriy Ki Jiwit Kahani Ho Gye Hai,
Hai Naman Uanko Jinke Samne bauna Himaly,
Jo Dara Par Gir Pre Par Aasmani Ho Gye Hai,


 


उन आँखों की दो बूँदे से सातै सागर हारे हैं।
जब मेहँदी वाले हाथों में मंगल सुत्र उतारे हैं।

Uan Aakho Ki Do Bundo Se Saty Sagar Hare Hai,
Jab Mehndi Wale Hatho Me Mangal Sutar Uatare Hai,

Desh Bhakti Shayari in Hindi Desh Bhakti Shayari in Hindi


💞•••••••• Desh Bhakti Shayari in Hindi ••••••••💔


कुछ पत्रे इतिहास के।
मेरे मुल्क के सिने में शमशीर हो गए।
जो लड़े जो मरे वो शहीद हो गए।
जो डरे जो झुके बाजिर हो गए।

Kuch Patte Etihas Ke,
Mere Mulk Ke Sine Me Samsir Ho Gye,
Jo Lre Jo Mre Wo Sahia Ho Gye,
Jo Dre Jo Jhuke Bajir Ho Gye,


 


चिंगारी आजादी की सुलगी मेरे जश्न में हैं।
इन्कलाब की ज्वालाएं लिपटी मेरे बदन में हैं।
मौत जहाँ जन्नत हो ये बात मेरे बतन में हैं।
कुर्बानी का ज्जबा जिन्दा मेरे कफन में हैं।

Chingari Aajadi Ki Silgi Mere Jass Me Hai,
Eanklab Ki Chawalaye Lipti Mere Badan Me Hai,
Muat Jha Jannt Ho Ye Bat Mere Batan Me Hai,
Kurbani Ki Jjba Jianda Mere Kafhan Me Hai,


Desh bhakti shayari in hindi status


दुश्मन की गोलियों का हम सामना करेगें।
आजाद है और आजाद ही रहेगे।

Dusman Ki Goliyo Ka Ham Samna Krege,
Aajad Hai Our Aajad Hi Rhege,


 


ये बात हवाओ को भी बताये रखना।
रौशनी होगी चिरागों को भी चलाये रखना।
लहू देकर जिसकी हिफाजत की हमने।
ऐसे तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना।

Ye Bat Hawaoo Ko Bhi Bataye Rakhna,
Ruaisni Hogi Chirago Ko Bhi Chalaye Rakhna,
Lhu Dekar Jiski Hifhjat Ki Hamne,
Yese Tirange Ko Sda Dil Me Bsaye Rakhna,


💞•••••••• Desh Bhakti Shayari in Hindi ••••••••💔


अनेकता में एकता ही इस देश की शान हैं।
इसलिए मेरा भारत देश महान हैं।

Anekta Me Yekta Hi Eas Desh Ki San Hai,
Easliye Mera Bharat Desh Mahan Hai,


 


अपनी आजादी को हम हर गिज मिटा सकते नहीं।
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं।

Apni Aajadi Ko Ham Har Gij Mita Sakte Nhi,
Sar Kta Sakte Hai Lekin Sar Shuka Sakte Nhi,


 


मैं जला हुआ राख नहीं अमर दीप हूँ।
जो मिट गया वतन पर मै वो शहीद हूँ।

My Jla Huaa Rakh Nhi Amar Dip Hu,
Jo Mit Gya Watan Par My Wo Shid Hu,


 


Desh Bhakti Shayari in Hindi
Desh Bhakti Shayari in Hindi

भारत की फि़जाओ को सदा याद रहूंगा।
आजाद था आजाद हूँ आजाद रहूंगा।

Bharat Ki Fhijaoo Ko Sada Yad Rahuga,
Aajad Tha Aajad Hu Aajad Rhuga,


💞•••••••• Desh Bhakti Shayari in Hindi ••••••••💔


ये पेड़ ये पत्ते ये शाखे भी परेशान हो जाए।
अगर परिंदे भी हिन्दू और मुसलमान हो जाए।

Ye Per Patte Ye Sakhe Bhi Presan Ho Jaye,
Agar Prinde Bhi Hindu Our Muslim Ho Jaye,


Kumar vishwas desh bhakti shayari in hindi,


कहते हैं अलविदा हम अब इस जहान को।
जरा कर खुदा के घर से अब आया ना जाएगा।
हमने लगाई आग हैं जो इंनकलाब की।
इस आग को किसी से बुझाया ना जाएगा।

Kahte Hai Alwida Ham Ab Eas Jahan Ko,
Jra Kar Khuda Ke Ghar Se Ab Aaya Na Jayga,
Hamne Lagayi Aag Hai Jo Eankalab Ki,
Eas Aag Ko Kisi Se Bujhaya Na Jayga,


 


खूब बहती हैं अमन की गंगा बहने दो।
मत फैलाओ देश में दंगा अमन चैन रहने दो।
लाल हरे रंग में ना बाटो हमको।
मेरे छत पे एक तिरंगा रहने दो।

Khub Bahti Hai Aman Ki Ganga Bahne Do,
Mat Fhuilaoo Desh Me Danga Aman Chain Me Rahne Do,
Lal Hre Rang Me Na Bato Hamko,
Mere Chat Pe Ek Tiranga Rahne Do,


 


शहीदो की चिंताओ पर लगेंगे हर बरस मेले।
वतन पे मरने वालो का यही बाकी निशा होगा।

Shido Ki Chitaoo Par Lgege Har Baras Mele,
Watan Pe Marne WLo Ka Yhi Baki Nisan Hoga,


 


आन देश की शान देश की देश की हम संतान हैं।
तीन रंगों में रंगा तिरंगा अपनी ये पहचान हैं।

Aan Desh Ki San Desh Ki Desh Ki Ham Santan Hai,
Tin Rango Me Ranga Tiranga Apni Pahchan Hai,


💞•••••••• Desh Bhakti Shayari in Hindi ••••••••💔


चँढ़ गये जो हँस कर सूली खाई जिन्होंने सिने पे गोली।
हम उनको प्रणाम करते हैं जो मिट गये देश पर।
हम सब उनको सलाम करते हैं यदी प्रेरणा
शहीदों नहीं लेगे तो।
ये आजादी ढ़लती हुई साज हो जाएगी।

Chadh Gye Jo Has Kar Suli Khaei Jianhone Sine Pe Goli,
Ham Uanko Parnam Karte Hai Jo Mit Gye Desh Par,
Ham Sab Uako Salam Karte Hai Yhi Parenna,
Sahido Nhi Lege To,
Ye Aajadi Dhlti Huei Saj Ho Jaygi,


Desh Bhakti Shayari army


आओ झुक कर सलाम करते हैं।
जिन्हें हिस्से में ये मुकाम आता हैं।
खुशनसीब होते हैं वो लोग।
जिनका लहू इस देश के काम आता हैं।

Aaoo Jhuk Kar Salam Karte Hai,
Jinhe Hisse Me Ye Mukam Aata Hai,
Khusnsib Hote Hai Wo Log,
Jianka Lhu Eas Desh Ke Kam Aata Hai,


फना होने की इजाजत ली नहीं जाती।
ये वतन की मुहब्बत हैं जनाब पूछ।
के नहीं की जाती।

Fhana Hone Ki Ejajt Li Nhi Jati,
Ye Watan Ki Muhbbt Hai Jnab Puch,
Ke Nhi Ki Jati,


 


गिले चावल में शक्कर क्या गिरी।
तुम भिखारी खीर समझ बैठे।
चंद कुत्तो ने पाकिस्तान जिनदाबाद क्या बोला।
तुम कशमीर को अपने बाप की जागीर समझ बैठे।

Gile Chawal Me Sakkr Kya Giri,
Tum Bhikhari Khir Samajh Buthe,
Chand Kutto Ne Pakistan Jiandabad Kya Bola,
Tum Kasmir Ko Apne Bap Ki Jagir Samajh Baithe


💞•••••••• Desh Bhakti Shayari in Hindi ••••••••💔


Desh Bhakti Shayari in Hindi
Desh Bhakti Shayari in Hindi

लिपट कर बंदन कई तिरंगो में आज भी आते हैं।
यू ही नहीं दोस्तों हम ये पर्व मनाते हैं।

Lipat Kar Badan Kaei Tirango Me Aaj Bhi Aate Hai,
Yu Hi Nhi Dosto Ham Ye Parw Manate Hai,


 


ये पाक तेरा ख्वाब नज़ारा ही रहेगा।
तू किस्मत का मारा हैं मारा ही रहेगा।
तेरा हर सवाल का जवाब करारा ही रहेगा।
कश्मीर हमारा है और हमारा ही रहेगा।

Ue Pak Tera Khuwab Najara Hi Rhega,
Tu Kismat Ka Mara Hai Mara Hi Rhega,
Tera Har Sawal Ka Jwab Krara Hi Rhega,
Kasmir Hamara Hai Our Hamara Hi Rhega,


Desh bhakti shayari in hindi status,


तीन रंग का नहीं वस्त्र ये ध्वज देश की शान हैं।
हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान हैं।
यही है गंगा यही है हिमालय यही हिंद की जान हैं।
और तिन रंगो में रंगा हुआ ये अपना हिंदुस्तान हैं।

Tin Rang Ka Nhi Wast Ye Dhawaj Desh Ki San Hai,
Har Bhartiy Ke Dilo Ka Subhiman Hai,
Yhi Hai Ganga Yhi Hai Himalay Yhi Hind Ki Jan Hai,
Our Tin Rango Me Ranga Huaa Ye Apna Hindustan Hai,


💞•••••••• Desh Bhakti Shayari in Hindi ••••••••💔


दे सलामी इस तिरंगे को।
जिससे तेरी शान हैं।
सर हमेशा उँचा रखना इसका।
जब तक दिल में जान हैं।

De Slami Eas Tirange Ko,
Jisse Teri San Hai,
Sar Hamesa Ucha Rakhana Easka,
Jab Tak Dil Me Jan Hai,


 


जमाने भर में मिलते हैं आशिक कई।
मगर वतन से खूबसूरत कोई कफन नहीं होता।
नोटों में लिपट कर और सोने में लिपट कर मरे हैं कई।
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफन नहीं होता।

Jamane Bhar Me Milte Hai Aasik Kaei,
Magr Watan Se Khubsurat Koei Kafhan Nhi Hota,
Noto Me Lipt Kar Our Sone Se Lipat Kar Mare Hai Kei,
Magar Tirange Se Khubsurat Koei Kafhan Nhi Hota,


heart touching desh bhakti shayari,


कुछ नशा तिरंगे की आन का हैं।
कुछ नशा मातृभूमि की शान हैं।
हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा।
नशा ये हिंदुस्तान का सम्मान का हैं।

Kuchh Nasa Tirange Ki Aan Ka Hai,
Kuchh Nasa Matrbhumi Ki San Hai,
Ham Lahrayege Har Jagah Ye Tiranga,
Nsa Ye Hindustan Ka Samman Ka Hai,


💞•••••••• Desh Bhakti Shayari in Hindi ••••••••💔


वतन पर जो फिदा होगा।
अमर वो हर नौजवान होगा।
रहेगी जब तक दुनियां ये।
अफ़साना उनका बयाँ होगा।

Watan Par Jo Fhida Hoga,
Amar Wo Har Nujwan Hoga,
Rhegi Jab Tak Duniya Ye,
Afhsana Uanka Bya Hoga,


 


काले गोरे का भेद नहीं।
इस दिल से हमारा नाता है।
कुछ और ना आता है हमको।
हमें प्यार निभाना आता है।

Kale Gore Ka Bhed Ngi,
Eas Dil Se Hamara Nata Hai,
Kuchh Our Na Aata Hai Hamko,
Hame Payar Nibhana Aata Hai,


 


आजा़दि की कभी शाम नहीं होने देगे।
शहीदो की कुरबानी बदनाम नहीं होने देगे।
बची हो जो एक बूंद भी गरम लहु की।
तब तक भारत माता की आँचल
निलाम नहीं होने देगे।

Ajadi Ki Kavi Sam Nhi Hone Dege,
Sahido Ki Kuarbani Badnam Nhi Hone Dege,
Bachi Ho Jo Ek Buand V Garm Lhu Ki,
Tab Tak Bharat Mata KI Aachal Nilam
Nhin Hone Dena,


💞•••••••• Desh Bhakti Shayari in Hindi ••••••••💔


बस ये बात हवाओ को बताये रखना।
रौशनी होगी चिरागो को जलाये रखना।
लहू देखकर भी जिनकी हिफाजत की शहीदो ने।
उस तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना।

Bas Ye Bat Hawaoo Ko Btaye Rakhna,
Ruisni Hogi Chirago Ko Jalaye Rakhna,
Lhu Dekhkar Bhi Jinki Hifajat Ki Shido Ne,
Uas Tirange Ko Sda Dil Me Basaye Rakhna,


desh bhakti shayari


वो तिरंगे वाले DP हो तो लगा लेना भाई।
सुना हैं कल देशभक्ति दिखाने कि दिन हैं।

Wo Tirange Wale DP Ho To Lga Lena Bhai,
Suna Hai Kal Deshbhakti Dikhane Ki Din Hai,


 


Desh Bhakti Shayari in Hindi
Desh Bhakti Shayari in Hindi

उनके हौसले का भुगतान क्या करेगा कोई।
उनकी सहादत की कर्ज देश पर उधार हैं।
आप और हम इसलिए खुशहाल है।
क्योंकि सीमा पे सैनिक शहादत को तैयार हैं।

Uanke Huisle Ka Bhuktan Kya Krega Koei,
Uanki Sahadat Ki Karj Desh Par Uathar Hai,
Aap Our Ham Easliye Khushal Hai,
Kyoki Sima Pe Sainik Sahadt Ko Taiyar Hai,


 


फिर उँड़ गयी नींद यह सोचकर।
कि जो शहीदो का वहा वो खून।
मेरी नींद के लिए।

Fhir Uar Gyi Nind Yah Sochkar,
Ki Jo Sahido Ka Waha Wo Khun,
Meri Nind Ke Liye,


💞•••••••• Desh Bhakti Shayari in Hindi ••••••••💔


भारत का वीर जवान हूँ मैं।
ना हिंन्दू ना मुस्लमान हूँ मैं।
जख्मो से भरा सिना हैं मगर।
दुश्मन के लिए चट्टान हूँ मैं।
भारत का वीर जवान हूँ मैं।

Bharat Ka Wir Jawan Hu My,
Na Hundu Na Musman Hu My,
Jakhmo Se Bhara Sina Hai Magar,
Dusman Ke Liye Chatan Hu my,
Bharat Ka Wir Jawan Hu My,


heart touching lines desh bhakti shayari in hindi


चलो फिर से खुद को जगाते हैं।
अनुशाशन का ठंडा फिर से घुमाते हैं।
सुनहरा रंग हैं शहीदो के लहू में।
ऐसे शहीदो को हम सर झुकाते हैं।

Chalo Fhir Se Khud Ko Jagate Hai,
Anusasan Ka Dith Fhir Se Ghumate Hai,
Sunhra Rang Hai Shido Ke Lhu Me,
Yese Shido Ko Ham Sar Jukate Hai,

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *