Garibi Shayari in Hindi,

Garibi Shayari in Hindi | Best Garibi Shayari image 2021 | गरीबी पर शायरी

Aaj Ham Aapko Garibi Shayari in Hindi Dene Wale Hai |
Dosto Garibi Ek Eansan Hai Jo Har Bure Kam Karne Ke Liye Taiyar Ho Jata Hai | Garibi Ko Hatane Ka Ek Hi Rasta Hai | Our Wo Hai Tichar | Jo Bachho Ko Achha Padhaei Dekahr Logo Ko Rojgar Ke Kabil Banaye | Our Garibi Mitaye | Aaj Ke Duair Me Padhei Kiya Huaa Logo Ko Job Nhi Mil Rha Easse Garib Our Jayada Ho Rha Hai | Eansan Dhire Dhire Micino Ki Tarafh Padh Rha Hai | Jaha Eansan Ki Jagah Micin Kam Rha Hai 

 

Easse Garibi Our Berojgari Our Bhi Bada Jayega | Hamare Hisab Se Garibi Har Desh Me Hai | Our Ese Puri Tarah Se Khatam Karna Muskil Hai 

Jab Ko Shayari Garibi Par Lokhi Jati Hai | To Log Use Kafhi Pasand Karte Hai Our Esi Khas Bat Par Ham Aapko Garibi Shayari Leke Aa Gye Mujhe Aasa Hai Jrur Achha Lgega
To Aaeiye Dekhte Hai Garibi Shayari






 

कैसे बनेगा अमीर वो हिसाब का कच्चा भिखारी।
एक सिक्के के बदले जो बीस किमती दुआ देता हैं।

Kaise Bnega Amir Wo Hisab Ka Kachha Bhikhari,
Ek Sikke Ke Badle Jo Bis Kimti Duaa Deta Hai,


Ameer Ladki garib ladka Shayari


अजीब मिठास हैं मुझ गरीब के खून में भी।
जिसे भी मैका मिलता हैं वो पिता जरूर हैं।

Ajib Mithas Hai Mujh Garib Ke Khun Me Bhi,
Jise Bhi Muka Milta Hai Wo Pita Jarur Hai,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


कही बेहतर है तेरी अमीरी से मुफसिली मेरी।
चंद सिक्के के ख़ातिर तू ने क्या नहीं खोया हैं।
माना नहीं है मखमल का बिछौना मेरे पास।
पर तू ये बता कितनी राते चैन से सोया है।

Kahi Behtar Hai Teri Amiro Se Mufhsili Meri,
Chand Sikke Ke Khatir Tu Ne Kya Nhi Khoya,
Mana Nhi Hai Makhmal Ka Bichuna Mere Pas,
Par Tu Ye Bta Kitni Rate Chain Se Soya Hai,






उन घरो में जहाँ मिट्टी कि घड़े रखते हैं।
कद में छोटे मगर लोग बड़े रखते हैं।

Uan Gharo Me Jaha Mitti Ki Ghare Rakhte Hai,
Kad Me Chote Magar Log Bare Rakhte Hai,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


कभी आंसू तो कभी खुशी बेची।
हम गरीबो ने बेकसी बेची।
चंद सासे खरीदने के लिए।
रोज थोड़ी सी जिंदगी बेची।

Kabhi Aasu To Kabhi Khusi Bechi,
Ham Garibo Ne Beksi Bechi,
Chand Sase Kharidne Ke Liye,
Roj Thori Si Jiandgi Bechi Hai,


 


मरहम लगा सको तो किसी गरीब के ज़ख्मो पर लगा देना।
हकीम बहुत हैं बाजार में अमीरो के इलाज के ख़ातिर।

Marham Lga Sko To Kisi Grib Ke Jakhmo Par Lga Dena,
Hakim Bhud Hai Bajar Me Amiro Ke Elaj Ke Khatir,


Garibi Shayari in english


तहजिब की मिसाल गरीबों के घर पे हैं।
दुपट्टा फटा हुआ है मगर उनके सर पे हैं।

Tahjib Ki Misal Garobo Ke Ghar Pe Hai,
Duptta Fhta Huaa Hai Magar Uanke Sar Pe Hai,






सहम उठते हैं कच्चे मकान पानी के खौफ से।
महलोंं कि आरजू ये हैं कि बरसात तेज हो।

Sahma Uathte Hai Kachhe Makan Pani Ke Khuif Se,
Mahlo Ki Aarju Ye Hai Ki Barsat Tej Ho,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


कैसे मुहब्बत करु बहुत गरीब हूँ साहब।
लोग बिकते हैं और मैं खरीद नहीं पाता।

Kaise Muhbbt Kru Bhut Garib Hu Sahab,
Log Bikte Hai Our My Khrid Nhi Pata,



चेहरा बता रहा था कि मारा हैं भूख ने।
सक कर रहे थे के कुछ खा के मर गया।

Chehra Bta Rha Tha Ki Mara Hai Bhukh Ne,
Sak Kar Rhe The Kuchh Kha Ke Mar Gya,


 


Garibi Shayari in Hindi

जब भी देखता हूँ किसी गरीब को हँसते हुए।
तो यकिन आ जाता हैं।
कि खुशियों का ताल्लुक दौलत से नहीं होता।

Jab Bhi Dekhta Hu Kisi Garib Ko Jaste Huye,
To Ykin Aa Jata Hai,
Ki Khusiyo Ka Talluk Duilat Se Nhi Hota,


2 line shayari on gareebi


जो गरीबी में एक दिया भी न जला सका।
एक अमीर का पटाखा उसका घर जला गया।

Jo Garibi Me Ek Diya Bhi Na Jla Saka,
Ek Amir Ka Patakha Uaska Ghar Jla Gya,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


मैं क्या मुहब्बत करू किसी से मै तो गरीब हूँ।
लोग अक्सर बिकते हैं और खरीदना मेरे बस में नहीं।

My Kya Muhbbt Kru Kisi Se My To Garib Hu,
Log Aksar Bikte Hai Kharidna Mere Bas Me Nhi,






गरीबों के बच्चे भी खाना खा सके त्योहारों में।
तभी तो भगवान खुद बिक जाते हैं बजारो में।

Garibo Ke Bachhe Bhi Khana Kha Ske Tyoharo Me,
Tabhi To Bhagwan Khud Bik Jate Hai Bajaro Me,


love Shayari 


शाम को थक कर टूटे झोपड़ी में सो जाता हैं।
वो मजदूर जो शहर में ऊंची इमारतें बनाता हैं।

Sam Ko Thak Kar Tute Jhopri Me So Jata Hai,
Wo Majdur Jo Shahar Me Uachi Emarte Bnata Hai,


 


अमीर की बेटी पार्लर में जितना दे आती हैं।
उतने में गरीब की बेटी अपने ससुराल चली जाती हैं।

Amir Ki Beti Palar Me Jitna De Aati Hai,
Uatne Me Garib Ki Beti Apne Sasural Chlai Jati Hai,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


उसने यह सोच कर अलविदा कह दिया।
गरीब लोग हैं मुहब्बत के सिवा क्या देंगे।

Uasne Yah Soch Kar Alwida Kah Diya,
Garib Log Hai Muhbbt Ke Siwa Kya Dege,



अपने मेहमान को पलको पे बिठा लेती हैं।
गरीबी जानती हैं घर में बिछौने कम हैं।

Apne Mehman Ko Palko Pe Bitha Leti Hai,
Garibi Janti Hai Ghar Me Bichuine Kam Hai,





छीन लेता हैं हर चीज़ मुझसे ये खुदा।
क्या तू मुझसे भी ज्यादा गरीब हैं।

Chin Leta Hai Har Chij Mujhse Ye Khuda,
Kya Tu Mujhse Bhi Jayada Garib Hai,


 


बहुत जल्दी सिख लेता हूँ ज़िन्दगी का सबक।
गरीब बच्चा हूँ बात बात पर जिद्द नहीं करता।

Bahut Jaldi Sikh Leta Hu Jiandgi Ka Sabak,
Garib Bachha Hu Bat Bat Par Jidd Nhi Karta,


Garibi Quotes in hindi,


मैं कड़ी धूप में जलता हूँ इस यकीन के साथ।
मैं जलुँगा तो मेरे घर में उजाले होगे।

My Kari Dhup Me Jalta Hu Eas Ykian Ke Sath,
My Jaluga To Mere Ghar Me Ujale Hoge,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


Garibi Shayari in Hindi

घटाए आ चुकी हैं आसमां पे और दिन सुहाने हैं।
मेरी मजबूरी तो देखो मुझे बारिश में भी कागज कमाने हैं।

Ghataye Aa Chuki Hai Aasma Pe Our Din, Suhane Hai,
Meri Majburi To Dekho Mujhe Baeish Me Bhi,
Kagaj Kamane hai,


 


जरा सी आहट पर जाग जाता है वो रातो को।
ऐ खुदा गरीब को बेटी दे तो दरवाजा भी दे।

Jra Si Aahat Par Jag Jata Hai Wo Raro Ko,
Ye Khuda Garib Ko Beti De To Darwaje Bhi De,


Hindi Shayari


अ़शक उनकी आँखों के करीब होते हैं।
रिश्ते दर्द के जिसको होते हैं।
दौलत अपने दिल की लुटा दी है जिसने।
कोई कहते हैं कि वो गरीब होते हैं।

Asak Uanki Aakho Ke Karib Hote Hai,
Riste Dard Ke Jiski Hote Hai,
Duailt Apne Dil Ki Luta Di Hai Jisne,
Koei Kahte Hai Ki Wo Garib Hote Hai,





यू न झाँका करो किसी गरीब के दिल में।
के वहा हसरतें वेलिबास रहा करती है।

Yu Na Jhaka Kero Kisi Garib Ke Dil Me,
Ke Waha Hasrte Welibas Rha Karti Hai,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


छुपाता था वो गरीब अपने भूख को गुरबत में।
अब वो भी फकर से कहेगा मेरा रोजा हैं।

Chupta Tha Wo Garib Apne Bhukh Ko Gurbat Me,
Ab Wo Bhi Fhakar Se Kahega Mera Roha Hai,


 


अमीर के छत पे बैठा कव्वा भी मोर लगता हैं।
गरीब का भुखा बच्चा भी चोर लगता हैं।

Amir Ke Chat Pe Baitha Kawwa Bhi Mor Lagta,
Garib Ka Bhukha Bachha Chor Lagta Hai,


Amiri garibi Shayari in Hindi


ऐ मैत जरा पहले आना गरीब के घर।
कफन का खर्च दवाओं में निकल जाता हैं।

Ye Muait Jra Pahle Aana Garib Ke Ghar,
Kafhan Ka Kharcha Dawaoo Me Nikal Jata Hai,






हमने कुछ ऐसे भी गरीब देखे है।
जिनके पास पैसे के अलावा कुछ भी नहीं।

Hamne Kuchh Yese Bhi Garib Dekhe Hai,
Jinke Pas Paise Ke Aalawa Kuchh Bhi Nhi,


 


गरीब भूख से मरे तो अमीर आहो से मर जाए।
इनसे जो बच गए वो झूठे रिवाजो से मर जाए।

Garib Bhukh Se Mre To Amir Aaho Se Mar Jaye,
Eanse Jo Bach Jaye Wo Jhuthe Riwajo Se Mar Jaye,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


किस्मत को खराब बोलने वालो ।
कभी किसी गरीब के पास बैठ के पुछना जिंदगी क्या हैं।

Kismat Ko Kharab Bolne Walo,
Kabhi Kisi Garib Ke Pas Baith Ke Puchna Jiandgi Kya Hai,






कभी कपड़े के तन पर अजीब लगती हैं।
अमीर बाप की बेटी गरीब लगती हैं।

Kabhi Kapre Ke Tan Par Ajiab Lagti Hai,
Amir Bap Ki Beti Garib Lagti Hai,


Garib Attitude Status in Hindi


Garibi Shayari in Hindi
Garibi Shayari in Hindi

फेंक रहे हो तुम खाना क्योंकि आज रोटी थोड़ी सुखी हैं।
थीड़ी इज्जत से फेंकना साहब मेरी बेटी कल से भूखी हैं।

Fhek Rhe Ho Tum Khana Kyuki Aaj Roti Thori Sukhi Hai,
Thori Eajjat Se Fhekna Sahab Meri Beti Kal Se Bhukhi Hai,


 


घर में चुल्हा जल सके इसलिए कड़ी धुप में जलते देखा हैं।
हाँ मैने गरीब की सांस को गुब्बारे में बिकते देखा हैं।

Ghar Me Chulha Jal Ske Easliye Kari Dhup Me,
Jalte Selha Hai,
Ha Myine Garib Ki Sas Ko Gubbare Me Bikte Dekha Hai,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


रोज शाम मैदान में बैठ ये कहते हुए एक बच्चा रोता था।
हम गरीब है इसलिए हम गरीब का कोई दोस्त नहीं होता।

Roj Sam Muidan Me Baith Ye Kahte Huye Ek,
Bachha Rota Tha,
Ham Garib Hai Easliye Ham Garib Ka Koei,
Dost Nhi Hota,





गरीब नहीं जानता क्या हैं मज़हब।
जो बुझाई पेट की आग वही हैं रब उसका।

Garib Nhi Janta Kya Hai Majhab,
Jo Bujhei Peat Ki Aag Wahi Hai Rab Uaska,


 


डोली चाहे अमीर के घर से उठे या गरीब के।
चौखट एक बाप की ही सुनी होती हैं।

Doli Chahe Amir Ke Ghar Se Uathe Ya Garib Ke,
Chukhat Ek Bap Ki Hi Suni Hoti Hai,


Garibi Shayari Image Download


इसे नसीहत कहू या ज़बानी चोट साहब।
एक शख्स कह गया गरीब मुहब्बत नहीं करते।

Ese Nasihat Kahu Ya Jabani Sahab,
Ek Sakhs Kah Gya Garib Muhbbt Nhi Karte,


 


यूँ गरीब कह कर खुद की तौहीन ना कर ऐ बंदे।
गरीब तो वो लोग हैं जिनके पास ईमान नहीं है।

Yu Garib Kah Kar Khud Ki Taihin Na Kar Ye Bande,
Gaeib To Wo Log Hai Jinke Pas Eaman Nhi Hai,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


मुहब्बत भी सरकारी नौकरी लगती हैं साहब।
किसी गरीब को मिली ही नहीं।

Muhbbt Bhi Sarkari Nuikri Lagti Hai Sahab,
Kisi Garib Ko Mili Hi Nhi,





दोपहर तक बिक गया बाजार का हर एक झूठ।
और एक गरीब सच लेकर शाम तक बैठा ही रहा।

Dophar Tak Bik Gya Bajaj Ka Har Ek Jhuth,
Our Ek Garib Sach Lekar Sam Tak Baitha Hi Rha,


Shayari on garibi,


पेट की भूख में जिंदगी के हर एक रंग दिखा दिया।
जो अपना बोझ उठा ना पाए पेट की भूख ने पत्थर उठवा दिया।

Peat Ki Bhukh Me Jiandgi Ke Har Ek Rang, Dikha Diya,
Jo Apna Bojh Utha Na Paye Peat Ki Bhukh,
Ne Pathar Uathwa Diya,



खुदा के दिल को भी सुकून आता होगा।
जब कोई गरीब चेहरा मुस्कुराता होगा।

Khuda Ke Dil Ko Bhi Sukun Aata Hoga,
Jab Koei Garib Chehra Muskyrata Hoga,






Garibi Shayari in Hindi
Garibi Shayari in Hindi

वो रोज रोज नहीं जलता साहब।
मंदिर का दिया नही हैं गरीब का चुल्हा हैं।

Wo Roj Roj Nhi Jalta Sahab,
Mandir Ka Diya Nhi Hai Garib Ka Chulha Hai,


 


रजाई की रुत गरीबी के आगन में दस्तक देती हैं।
जेब गरम रखने वाले ठणड से नहीं मरते।

Rajaei Ki Ruat Garibo Ke Aagan Me Dastak,
Deti Hai,
Jeab Garam Rakhne Wale Thand Se Nhi Marte,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


जनाजा बहुत भारी था उस गरीब का।
शायद सारे अरमान साथ लिए जा रहा था।

Janaja Bhut Bhari Tha Uas Garib Ka,
Sayad Sare Aarman Sath Liye Ja Rha Tha,





बस एक बात का मतलब आज तक समझ नहीं आया।
जो गरीब के हक के लिए लड़ते हैं वो अमिर कैसे बन जाते हैं

Bas Ek Bat Ka Matlab Aaj Tak Samjh Nhi Aaya,
Jo Garib Ke Hak Ke Liye Larte Hai Wo Amir, Kaose Ban Jate Hai,


Gareeb Quotes In Hindi


मैं गरीब का बच्चा था इसलिए भूखा रह गया।
पेट भर गया वो कुत्ता जो अमीर के घर का था।

My Garib Ka Bachha Tha Eas Liye Bhukha RahGya,
Peat Bhar Gya Wo Kutta Jo Amir Ke Ghar Ka Tha Garibi pe shayari in hind


 


क्या किस्मत पाई हैं रोटियो ने भी निवाला बनकर।
रहिसो ने आधी फेक दी गरीब ने आधी में जिंदगी गुजार दी।

Kya Kismat Paei Hai Rotiyo Ne Bhi Niwala Banakar,
Rahiso Ne Aathi Fhek Di Garib Ne Aadhi Me,
Jiandgi Gujar Di,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


रूखी रोटी को भी बाट कर खाते हुए देखा मैने।
सड़क किनारे वो भिखारी अमीर निकला।

Rukhi Roti Ko Bhi Bat Kar Khate Huye Dekha Miane,
Sarak Kinare Wo Bhikhari Amir Nikla,


What’s app status 


यहा गरीब को मरने की जल्दी यूँ भी हैं।
के कही कफन महंगा ना हो जाए।

Yaha Garib Ko Marne Ki Jaldi Yu Bhi Hai,
Ke Kahi Kafhan Mahga Na Ho Jaye,





सुनो हम तो गरीब ही थे लेकिन।
तुम्हें क्या कमी थी जो हमारा दिल ले गयी।

Suno Ham To Garib Hi The Lekin,
Tumhe Kya Kami Thi Jo Hamara Dil Le Gyi,


Garibi ki shayari


हम गरीब लोग हैं किसी को मुहब्बत के सिवा क्या देंगे।
एक मुस्कुराहट थी वो भी बेवफ़ा लोगो ने छीन ली।

Ham Garib Log Hai Kisi Ko Muhbbt Ke Siwa Kya Dege,
Ek Muskuraht Thi Wo Bhi Bebfha Logo Ne Chin Li,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


Garibi Shayari in Hindi
Garibi Shayari in Hindi

वो राम की खिचड़ी भी खाता है।
रहीम की खीर भी खाता है।
वो भूखा हैं जनाब उसे कहाँ मजहब।
समझ आता हैं।

Wo Ram Ki Khichri Bhi Khata Hai,
Rahim Ki Khir Bhi Khata Hai,
Wo Bhukha Hai Janab Use Kaha Majhab,
Samjh Aata Hai,



हजारों दोस्त बन जाते हैं जब पैसा पास हो।
टूट जाता हैं वो गरिबी में जो रिश्ता खास हैं।

Hajaro Dost Ban Jate Hai Jab Paisa Ho,
Tut Jata Hai Wo Garibi Me Jo Rosta Khas Hai,





ये गंदगी तो महल वालो ने फैआई हैं साहब।
वरना गरीब तो सड़क से थैलियां तक उठा लेते हैं।

Ye Gandgi To Mahal Walo Ne Fhilaei Hai Sahab,
Warna Garib To Sarak Se Thiliya Tak Utha Lete Hai,


Garib status in hindi,


गरीबो कि औकात न पुछो तो अच्छा हैं।
इनकी कोई जात ना पुछो तो अच्छा हैं।
चेहरे कई बेनकाब हो जाऐगें।
ऐसी कोई बात ना पुछो तो अच्छा है।

Garib Ki Ookat Na Pucho To Achha Hai,
Eanki Koei Jat Na Pucho To Achha Hai,
Chehre Haei Benakab Ho Jayege,
Yesi Koei Bat Na Puchho To Achha Hai,


🌹••••••••• Garibi Shayari in Hindi •••••••••❣️


सुला दिया माँ ने भूखे बच्चो को ये कहकर।
परिया आयेगी सपनों में रोटी लेकर।

Sula Diya Ma Ne Bhukhe Bachho Ko Ye Kahke,
Pariya Aayegi Sapno Me Roti Lekar,



मजबूरीयाँ हावी हो जाएये जरुरी तो नहीं।
थोड़े बहुत शैख तो गरीब भी रखती हैं।

Majburiya Hawi Ho Jaye Ye Jaruri To Nhi,
Thore Bhut Suikh To Garib Bhi Rakhte Hai,


 


वो जिन्हें हाँथ में हर वक्त छाले रहते हैं।
आबाद उनही के दम पर महल वाले रहते हैं।

Wo Jianhe Hath Me Har Wakat Chale Rahte Hai,
Aabad Uanhi Ke Dam Par Mahal Wale Rahte Hai,




Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *