makar sankranti shayari

Makar Sankranti Shayari | Happy Makar Sankranti 2021 | मकर संक्रांति शायरी

Makar Sankranti Shayari : मकर संक्रांति हर साल पूरे भारत में 14 जनवरी को मनाई जाती हैं | यह पर्व पूरे देश में बहुत खुशी और उत्साहपूर्वक मनाया जाता हैं | इस दिन लोग अपने पड़ोसियों और रिश्तेदारों को तीलगुल भेंट करते हैं | एक दुसरे को शुभकामना भेजते हैं | इस लिए हम आपके लिए मकर संक्रांति शायरी मकर संक्रांति शुभकामनाये शायरी मकर संक्रांति नई शायरी लेकर आएं है | जिसकी मदद से आप अपने दोस्त और परिजनों को मकर संक्रांति शायरी के साथ शुभ बधाई दे सकते हैं |

हैप्पी मकर संक्रांति शायरी इन हिंदी 2019, मकर संक्रांति स्पेशल शायरी हिंदी में, मकर संक्रांति की शायरी, मकर संक्रांति पर शायरी, मकर संक्रांति बधाई सन्देश, मकर संक्रांति मुबारक शायरी, मकर संक्रांति मैसेज इन हिंदी, मकर संक्रांति शुभकामना शायरी


Makar sankranti shayari hindi


makar sankranti shayari

तिल हम हैं और गुड़ आप,
मिठाई हम हैं और मिठास आप,
साल के पहले त्योहार से हो रही हैं शुरुआत,
आपको हमारी तरफ से ढ़ेर सारी मुराद,

Til Ham Hai Our Gur Aap,
Mithaei Ham Hai Our Mithas Aap,
Sal Ke Pahle Tyohar Se Ho Rhi Hai Suruaat,
Aapko Hamari Tarafh Se Ther Sari Murad,
Happy Makar sankranti


 


दिल में है छायी मस्ती,
मन में भरी उमंग,
उड़ती हैं पतंगे रंग बिरंग,
आसमान में है छाया मकर संक्रांति का रंग,
हिप्पी मकर संक्रांति

Dil Me Hai Chhayi Masti,
Man Me Bhari Umang,
Uarti Hai Ptange Rang Birang,
Aasman Me Hai Chaya Makar sankranti Ka Rang,
Happy Makar sankranti


 


पतंग कट भी जाए मेरी तो परवाह नहीं यारों,
आरजू बस यह हैं कि उसके छत पे जा गिरे,

Ptang Kat Bhi Jaye Meri To Parwah Nhi Yaro,
Aarhu Bas Yah Hai Ki Uaske Chat Pe Jaa Gure,


💜 Makar Sankranti Shayari 💗


काट ना सके कभी कोई पतंग अपकी,
टुटे ना कभी डोर विश्वास कि,
छू लो आप जिंदगी की सारी कामयाबी,
जैसे पतंग छूती हैं उँचाई आसमान कि,
हिप्पी मकर संक्रांति

Kat Na Ske Kabhi Koei Ptang Aapki,
Tute Na Kabhi Dor Wiswas Ki,
Chu Lo Aap Jiandgi Ku Sari Kamyabi,
Jaise Ptang Chuti Hai Uuchaei Aasman Ki,
Happy Makar sankranti


Makar Sankranti Messages


वो आसमाँ में किसी पतंग कि तरह उड़ती रही,
मैं उस पतंग के पीछे पीछे भागता रहा,

Wo Aasma Me Kisi Ptang Ki Tarah Uarti Rhi,
My Uas Ptang Ke Piche Piche Bhagta Rha,


 


डोर चरखी पतंग सब कुछ था,
बस उसके घर कि तरफ हवा ना चली,

Dor Chrkhi Ptang Sab Kuch Tha,
Bas Uaske Ghar Ku Tarafh Hwa Na Chali,


 


makar sankranti shayari
makar sankranti shayari

ये पतंग भी बिलकुल हमारी तरह निकली,
जरा सी हवा क्या लग गयी हवा में उड़ने लगी,

Ye Ptang Bhi Bilkul Hamari Tarah Nikli,
Jra Si Hwa Kya Lag Gyi Hwa Me Urne Lgi,


 


 

बाजरे कि रोटी निम्बू का आचार,
सूरज कि किरणें चाँद की चाँदनी,
और अपनो का प्यार हर जिवन हो खुशहाल,
मुबारक हो आपको संक्रांति का त्योहार,
हिप्पी मकर संक्रांति

Bajre Ki Roti Nimbu Ka Aachar,
Suraj Ki Kirne Chand Ki Chadni,
Our Apno Ka Payar Har Jiwan Ho Khushal,
Mubark Ho Aapko sankranti Ka Tyohar,
Happy Makar sankranti


💜 Makar Sankranti Shayari 💗


मंदिर में बजी घंटियां सजी हैं आरती कि थाली,
सूरज कि रौशनी के किरनो के साथ,
हिप्पी मकर संक्रांति

Mandir Me Baji Ghanti Saji Hai Aarti Ki Thali,
Suraj Ki Ruisani Ke Kirno Ke Sath,
Happy Makar sankranti


Happy Makar Sankranti 2020


मिठे गुड़ में मिल गये तिल,
उड़ी पतंग और खिल गये दिल,
हर पल सुख और हर दिन शांति,
आप सब के लिए लाये मकर संक्रांति,
हिप्पी मकर संक्रांति

Mithe Gur Me Mil Gye Til,
Uri Pataing Our Khil Gye Dil,
Har Pal Khus Our Har Din Santi,
Aap Sab Ke Liye Laye Makar sankranti,
Happy Makar sankranti


 


कुछ का नसीब बदलेगा,
यह साल का पहला पर्व होगा,
जब हम सब मिलकर खुशियां मनाएंगे,
हिप्पी मकर संक्रांति

Kuch Ka Nasib Badlega,
Yah Sal Ka Pahla Parw Hoga,
Jab Ham Sab Milkar Khusiya,
Happy Makar sankranti


 


इससे पहले कि संक्रांति कि शाम हो जाए,
मेरा मेसेज भी ओरो कि तरह आम हो जाए,
और सारे मोबाइल नेटवर्क जाम हो जाए,
आपको संक्रांति कि शुभकामनाएं

Easse Pahle Ki sankranti Ki Sam Ho Jaye,
Mera Massage Bhi Ooro Ki Tarah Aam Ho Jaye,
Our Sare Mobile Network Jam Ho Jaye,
Aapko sankranti Ki Subhkamnaye,


 


makar sankranti shayari
makar sankranti shayari

पतंग ऊड़ाने चढ़ा था छत पर उनका दीदार हो गया,
बड़े अरसे तक समझाकर रखा था अपने दिल को मैने,
फिर भी फिर से उन्हीं से प्यार हो गया,
हिप्पी मकर संक्रांति

Ptang Urane Chatha Tha Chat Par Uanka Didar Ho Gya,
Bre Arse Tak Samjhkar Rkha Tha Apne Dil Ko Maine,
Fhir Bhi Fhir Se Uanhi Se Payar Ho Gya,
Happy Makar sankranti


💜 Makar Sankranti Shayari 💗


हर पतंग जानती हैं अंत में कचरे में जाना है,
लेकिन उसके पहले हमें आसमान छू कर दिखाना हैं,
बस ज़िन्दगी भी यही चाहती हैं,
हिप्पी मकर संक्रांति

Har Ptang Janti Hai Anat Me Machre Me Jana Hai,
Lekin Uasse Pahle Hme Aasman Chu Kar Dikhana Hai,
Bas Juandgi Bhi Yhi Chahti Hai,
Happy Makar sankranti


मकर संक्रांति की शुभकामनाये


makar sankranti shayari
makar sankranti shayari

त्योहार नहीं होता अपना पराया,
त्योहार वही जिसे सब ने मनाया,
तो मिल के गुड़ में तिल,
पतंग संग उड़ जाने दो दिल,
हिप्पी मकर संक्रांति

Tyohar Nhi Hota Aapna Praya,
Tyohar Wahi Jise Sab Ne Mnaya,
To Mil Ke Gur Me Til,
Ptang Sang Uar Jane Do Dil,
Happy Makar sankranti

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *