Shayari on Matlabi Insan

Shayari on Matlabi Insan | Matlabi Log Shayari 2021 | मतलबी दुनिया शायरी

Shayari on Matlabi Insan – दोस्तों आज हम आपके लिए लाये हैं एक से बढ़ कर एक मतलबी शायरी ये सिर्फ और सिर्फ आपके लिए है | अक्सर हमारी ज़िन्दगी में कुछ ऐसा समय आता है | जब हमे लगता हैं कोई हमारा अपना हमारे साथ सिर्फ इसलिये था क्योंकि क्यों कि उसको अपना काम निकालना था | इस दुनिया में हर रिश्ता खास होता हैं चाहे वो दोस्ती का हो या माँ बाप का या फिर पति पत्नी हर रिश्ता हमारे लिए बहुत खास होता हैं 

सभी रिश्तो में विश्वास होना ज़रूरी है रिश्ते बनाना आसान होता है पर उस रिश्ते को निभाना मुश्किल है। कुछ रिश्ते ऐसे भी होते हैं जो सिर्फ मतलब के लिए बने होते हैं |
जब उसका मतलब निकल जाता हैं तो आपसे रिश्ता तोड़ देते हैं। इसलिए आज हम लाये हैं मतलबी लोगों के लिए शायरी जैसे Shayari on Matlabi Insan – Matlabi Insan और हाँ अगर आपको अगर ये शायरी पसंद आये तो अपने दोस्तों मे जरूर भेजना इससे आपके दोस्त भी आपको कभी भेज सकता है अगर आप उसे अगर आप उसे बहुत ज्यादा प्यार करते हैं तो चलिये अब शायरी भि देख ले बहुत शारी शायरी हैं |


Matlabi Relationship Status in Hindi


Shayari on Matlabi Insan

1.
करीब रहो तो इतना कि रिश्तो में प्यार रहे,
दुर भी रहो इतना कि आने का इंतजार रहे,
रखो उम्मीद रिश्तो कि दरमिया इतनी,
कि टूट जाए उम्मीद पर रिश्ते बरक़रार रहे,Karib Rho To Eatna Ki Risto Me Payar Rhe,
Dur Bhi Rho Eatna Ki Aane Ka Eantjar Rhe,
Rkho Uammid Risto Ki Darmiya Eatni,
Ki Tut Jaye Uammid Par Riste Barkrar Rhe,

2.
जब रिश्ता नया होता हैं तो,
लोग बात करने का बहाना ढुढते हैं,
और जब उही रिश्ता पुराना हो जाता हैं,
तो लोग दुर होने का बहाना ढुढते हैं,Jab Rista Nya Hota Hai To,
Log Bat Karne Ka Bhana Dudte Hai,
Our Jab Uhi Rista Purana Ho Jata Hai,
To Log Dur Hone Ka Bhana Dudte Hai,

••••••• Shayari on Matlabi Insan •••••••

3.
कैसे करू भरोसा गैरो के प्यार पर,
अपने ही मजा लेते हैं अपने कि हार पर,Kaise Kru Bharosa Gairo Se Payar Par,
Apne Hi Mja Lete Hai Apne Ki Har Par,




Matlabi Pyar Shayari

4.
आज गुमनाम हूँ तो जरा फासला रख मुझसे,
कल फिर मसहूर हो जाऊ तो कोई रिश्ता निकाल लेना,Aaj Gumna Hu To Jra Fhasla Rakh Mujhse,
Kal Fhir Mashur Ho Jau To Koei Rista Nikal Lena,

5.
दुनिया को देख कर अब हम भी मिज़ाज बदले गे ,
रिश्ता सब से होगा लेकिन वास्ता किसी से नहीं,Duniya Ko Dekh Kar Ab Ham Bhi Mijaj Badlege,
Rista Sab Se Hoga Lekin Wasta Kisi Se Nhi,

6.
कुछ यूँ हुआ कि जब भी जरुरत पड़ी,
हर शख्स इतेफाक से मजबूर हो गया,Kuch Yu Huaa Ki Jab Bhi Jarurat Pari,
Har Sakhs Eatefhk Se Majbur Ho Gya,



7.
कोई कहता हैं दुनिया प्यार से चलती है,
कोई-कहता हैं दुनिया दोस्ती से चलती है,
लेकिन जब अजमाया तो पता,
दुनिया तो बस मतलब से चलती है,Koei Kahta Hai Duniya Payar Se Chalti Hai,
Koei – Kahta Hai Duniya Dosti Se Chalti Hai,
Lekin Jab Aajmaya To Paya,
Duniya To Bas Matlab Se Chalti Hai,

Matlabi Status in Hindi for Whatsapp

8.
सिखा दिया है दुनिया ने ये अपनो पर भी शक करना,
वरना मेरी फ़ितरत में तो गौरो पर भी भरोसा करना था,Sikha Diya Hai Duniya Ne Ye Apno Par Bhi Sak Karna,
Warna Meri Fhitrat Me To Jairo Par Bhi Bharosa Karna Tha,

••••••• Shayari on Matlabi Insan •••••••

9.
मैं भी झूठा तू भी झूठा झूठी है दुनिया सारी,
झूठे है लोग सभी झूठे है नर नारी,
झूठ ही सब का दाता सबका झूठ ही पालन हार हैं,
ऐसा कलयुग आया देखो झूठ हुआ सच पर भारी है,My Bhi Jhutha Tu Bhi Jhuthi Jhuthi Hai Duniya Sari,
Jhuthe Hai Log Sabhi Jhuthe Hai Nar Nari,
Jhuth Hi Sab Ka Data Sabka Jhuth Hi Palan Har Hai,
Yesa Kalyug Aaya Dekho Jhuth Huaa Sach Par Bhari Hai,




10.
बाते बिश्रृस और भरोसा की बेमानी सी लगती हैं,
झूठी दुनिया में वफादारी अनजानी से लगती हैं,
झूठे लोगों से भरी परी है कहाँनिया यहा किताबों में,
प्यार से बोल दे कोई तो मेहर बानी सी लगती हैं,Bate Wiswas Our Bharosa Ki Bemani Si Lagti Hai,
Jhuthi Duniya Me Wafhadar Ajnbi Se Lagti Hai,
Jhuthe Logo Se Bhari Pri Hai Kahaniya Yha Kitabo Me,
Payar Se Bol De Koei To Mehar Bani Si Lagti Hai,

Shayari on Matlabi Insan

11.
मुझको क्या हक मैं किसी को मतलबी कहूँ,
मैं खुद ही खुदा को मुसीबत में याद करता हूँ,Mujhko Kya Hak My Kisi Ko Matlbi Kahu,
My Khud Hi Khuda Ko Musibat Me Yad Karta Hu,

12.
मुझको छोड़ने की वजह तो बता दे,
मुझ से नाराज थे या मुझ जैसे हजार थे,Mujhko Chorne Ki Wajah To Bta To,
Mujh Se Naraj The Ya Mujh Jaise Hajar The,




Matlabi log Shayari in English

13.
झूठी दुनिया के झूठी फसाने हैं,
लोग भी झूठे और झूठे जमाने हैं,
धोखे मिलते हैं हर कदम पर यहाँ,
हर तड़फ भीड़ हैं लेकिन अफसोस सब बेगाने हैं,Jhuthi Duniya Ke Jhuthi Fhsane Hai,
Log Bhi Jhuthe Our Jhuthe Jamane Hai,
Dhokha Milte Hai Har Kadam Par Yha,
Har Tarafh Bhir Hai Lekin Afhsos Sab Begane Hai,

••••••• Shayari on Matlabi Insan •••••••

14.
तेरी दोस्ती ने बहुत कुछ सिखा दिया,
मेरी खामोश दुनिया को जैसे हँसा दिया,
कर्जदार है खुदा के जिसने आप,
जैसा दोस्त से मिला दिया,Teri Dosti Ne Bahut Kuch Sikha Diya,
Meri Khamos Duniya Ko Jaise Hsa Diya,
Karj Hai Khuda Ke Jisne Aap Jaisa,
Dost Se Mila Diya,

15.
इंसान कि अच्छाई पर सब खामोश रहते हैं,
चर्चा अगर उसकी बुराई पर हो तो गुगे भी बोल पड़ते हैं,Eansan Ki Achhaei Par Sab Khamos Rhate Hai,
Chacha Agar Uski Buraei Par Ho To Guge Bhi,
Bol Parte Hai,

16.
अब कटेगी ज़िंदगी सुकून से कुछ दिन तक।
अब हम भी कुछ दिन के लिए मतलबी हो गए हैं।Ab Kategi Sukun Se Kuchh Din Tak,
Ab Ham Bhi Kuchh Din Ke Liye
Matlabi Ho Gye Hai,



17.
काश उससे चाहने का अरमान ना होता।
मै होश में रहते हुए अनजान ना होता।
ना प्यार होता किसी पत्थर दिल से हमको।
या फिर कोई पत्थर दिल कोई इंसान ना होता।Kas Uusse Chahne Ka Arman Na Hota,
My Hosh Me Rahte Huye Anjan Na Hota,
Na Payar Hota Kisi Patthar Dil Se Hamko,
Ya Fhir Koei Patthar Dil Koei Eansan Na Hota,

Shayari on Matlabi Insan

18.
बेवफ़ा से दिल लगा लिया नादान थे हम।
गलती हमसे हुई कयोंकि इंसान थे हम।
आज जिनके नजरें मिलाने में तकलीफ होती हैं।
कुछ समय पहले उनकी जान थे हम।Webfha Se Dil Laga Liya Nadan The Ham,
Galti Hamse Huyi Kyuki Eansan The Hai,
Aaj Jinke Najre Milane Me Taklif Hoti Hai,
Kuchh Samay Pahle Uanki Jan The Hai,

••••••• Shayari on Matlabi Insan •••••••

19.
वक़्त की आग में पत्थर भी पिघल जाते हैं।
हसी लम्हे टूटकर अशकों में बह जाते हैं।
कोई साथ नहीं देगा इस जि़दगी में हमारा।
क्योंकि वक़्त के साथ इंसान बदल जाता हैं।Wakt Ki Aag Me Patthr Bhi Pighal Jata Hai,
Hasi Lamhe Tutkar Asko Me Bah Jata Hai,
Koei Sath Nhi Dega Eas Jiandgi Me Hamara,
Kyuki Wakt Ke Sath Eansan Badal Jata Hai,

20.
कोन किसको दिल में जगह देता हैं,
सूखे पत्तो तो पेड़ भी गिरा देता हैं,
वाकिफ है हम दुनिया के रिवाजो से,
मतलब निकल जाए तो हर कोई भूल जाता हैं,Kon Kisko Dil Me Jagah Deta Hai,
Sukhe Patte To Per Bhi Gira Deta Hai,
Wakifh Hai Ham Duniya Ke Riwajo Se,
Matlab Nikal Jaye To Har Koei Bhul Jata Hai,




Shayari on Matlabi Insan

21.
मतलब से कितने ही रिश्ते बनाने की कोशिश करो,
वो रिश्ता कभी नहीं बनता ,
और प्यार से बने रिश्ते को तोड़ने की कितनी भी,
कोशिश करो वो रिश्ता कभी नहीं टुटता,Matlab Se Kitne Hi Riste Bnane Ki Kosis,
Kro Wo Ristha Kabhi Nhi Banta,
Our Payar Se Bne Riste Ko Torne Ki Kitna Bhi,
Kosis Kro Wo Eista Kabhi Nhi Tutta,

22.
मत करो मेरी पीठ के पीछे बात जाकर कोने में
वरना पुरी ज़िंदगी गुजर जायेगी रोने में।Mat Kro Meri Pith Ke Piche Bat Jakar Kone Me Warna Puri Jiandgi Gujr,

Matlabi Shayari 2 lines

23.
दुश्मनों को सजा देने की एक तेहजीब हैं मेरी।
मैं हाथ नहीं उठाता बस नजरों से गिरा देते हैं।Dusmano Ko Saja Dene Ki Ek Tehjib Hai Meri,
My Hath Nhi Uthata Bas Najro
Se Gira Dete Hai,

••••••• Shayari on Matlabi Insan •••••••

24
अकसर वही लोग हम पर उँगलीया उठाते हैं।
जिनकी मुझसे बात करने की औकात न हैं।Aksar Ham Par Wahi Log Uagliya Uthate Hai,
Jianki Mujhse Bat Karne Ki Aukat N Ho,




25.
ये उम्र बित गयी पर समझ नहीं आया।
जिनसे मुहब्बत होती वो कदर क्यों नहीं करते।Ye Uamr Bit Gyi Par Samajh Nhi Aaya,
Jinse Muhbbt Hoti Wo Kadar Kyo Nhi Karte,

26.
आज उसने मुझे ये कह कर छोर दिया।
कि तुम मेरी ज़िन्दगी कि सबसे बरी भूल हो।Aaj Uasne Mujhe Ye Kah Kar Chhor Diya,
Ki Tim Meri Jiandgi Ki Sabse Bri Bhul Ho,

27.
बिछड़ के तुझसे ना देखा गया किसी का मिलन।
उठा दिया परिंदे भी हमने शजर पे बैठे हुई।Bichar Ke Tujhse Na Dekha Gya Kisi Ka Milna,
Utha Diya Paride Bhi Hamne Garaj Pe Baithe Huye,

Matlabi Log Quotes in Hindi

28.
कितनी दुर निकल आये हम इश्क़ निभाते निभाते।
खुद को खो दिया हमने उनको पाते पाते।
लोग कहते हैं दर्द बहुत हैं तेरे आँखो में।
और हम दर्द छुपाते रहे मुस्कराते मुस्कराते।Kiatni Dur Nikl Aaye Ham Iask Nibhate Nibhte,
Khud Ko Kho Diya HamnebUanke Pate Pate,
Log Kahte Hai Dard Bhut Hai Tere Aako Me,
Our Ham Dard Chupate
Rhe Muskrate Muskrate,




••••••• Shayari on Matlabi Insan •••••••

29.
तमन्ना जो आये ख्वाबो में,
हकिकत बन जाए तो क्या बात है,
कुछ लोग मतलब के लिए ढुढते हैं मुझे,
बिन मतलब कोई आये तो क्या बात है,Tmnna Jo Aaye Khwabo Me,
Hakikat Ban Jaye To Kya Bat Hai,
Kuch Log Matlab Ke Liye Dudte Hai Mujhe,
Bin Matlab Koei Aaye To Kya Bat Hai,

30.
तेरी रुसवाई से मुझे एक सबक मिला है,
दुश्मन भी इतना नहीं करता,
तूने दोस्त बनके किया है,Teri Ruswaei Se Mujhe Ek Sabak Mila Hai,
Dusman Bhi Eatna Nhi Karta,
Tune Dosat Banke Kiya Hai,

Shayari on Matlabi Insan

31.
भूला देगे तुम्हें जरा सब्र तो कीजिए,
आपकी तरह मतलबी होने में जरा वक्त लगेगा,Bhula Dege Tumhe Jra Sabr To Kijia,
Aapki Tarah Matlabi Hone Me Jra Wakt Lgega,

32.
ज़िन्दगी जिने का कुछ ऐसा अंदाज रखो,
मतलबी दोस्तों को नजर अंदाज़ रखो,Jiandgi Jine Ka Kuch Yesa Andaj Rkho,
Matlabi Dost Ko Najar Andaj Rkho,



Matlabi Status in Hindi for Whatsapp

33.
शीशा और रिश्ता दोनो हि बड़े नाजुक होते हैं,
दोनों मे सिर्फ एक ही फर्क है,
शीशा गलती से टुट जाता हैं और रिश्ता गलतफहमी से,Sisa Our Rista Dono Hi Bre Najuk Hote Hai,
Dono Me Shirfh Ek Hi Fhark Hai,
Sisa Galti Se Tut Jata Hai Our Rista,
Galatfhahmi Se,

••••••• Shayari on Matlabi Insan •••••••

34.
दुनिया बहुत मतलबी है साथ कोई क्यों देगा,
मुफ्त का यहा कफन नहीं मिलता,
तो बिना गम के प्यार कोन देगा,Duniya Bahut Matlbi Hai Sath Koei Kyo Dega,
Mufhat Ka Yha Kafhan Nhi Milta,
To Bina Gam Ke Payar Kon Dega,

35.
मतलबी लड़ की से अच्छी तो मेरी सिगरेट है यारों,
जो मेरे होठ से अपनी ज़िन्दगी सुरु करती हैं,
और मेरे कदमो के नीचे अपना दम तोड़ देती हैं,Matalbi Larki Se Achhi To Meri,
Sigret Hai Yaro,
Jo Mere Hotho Se Apni Jiandgi Suru Karti Hai,
Our Mere Kadmo Ke Niche Apna,
Dam Torti Deti Hai,

 


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *